Saturday, January 23, 2021
Home खेल यह महिला बनेगी टेस्ट क्रिकेट की पहली महिला अंपायर, सिडनी होगा गवाह

यह महिला बनेगी टेस्ट क्रिकेट की पहली महिला अंपायर, सिडनी होगा गवाह

दिल्ली। क्रिकेट अनिश्चितताओं को खेल है, इसमें खिलाड़ियों के रिकाॅड बनते और टूटते रहते है। गुरूवार को सिडनी को मैदान एक नये रिकाॅड का गवाह बनने जा रहा है। क्लेयर पोलोसाक भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच सिडनी में खेले जाने वाले पुरुषों के टेस्ट मैच में अंपायरिंग करने वाली पहली महिला बनेंगी। ऑस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स की 32 साल की पोलोसाक मैच में चैथे अंपायर की भूमिका में होंगी। वह इससे पहले मेन्स वनडे इंटरनेशनल क्रिकेट मैच में अंपायरिंग करने वाली पहली महिला अंपायर बनने की उपलब्धि हासिल कर चुकी हैं। उन्होंने 2019 में नामीबिया और ओमान के बीच वल्र्ड क्रिकेट लीग डिवीजन दो के मैच में अंपायरिंग की थी। क्लेयर पोलोसाक को क्रिकेट के प्रति लम्बा अनुभव है। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार मैचों की के तीसरे मैच में दो पूर्व तेज गेंदबाज पॉल रिफेल और पॉल विल्सन मैदानी अंपायर की भूमिका निभाएंगे जबकि ब्रूस ऑक्सेनफोर्ड तीसरे टेलीविजन अंपायर होंगे। डेविड बून मैच रेफरी होंगे।

यह भी पढेंः-टीम इंडिया के खिलाड़ियों का Video बनाने शख्स को पड़ी गालियां, बोला- माफी मांगता हूं..

टेस्ट मैचों के लिए आईसीसी के नियमों के अनुसार चैथे अंपायर को घरेलू क्रिकेट बोर्ड द्वारा अपने आईसीसी अंपायरों के इंटरनेशनल पैनल में से नियुक्त किया जाता है। क्लेयर पोलोसाक के लिए यह उपलब्धि है तथा महिला अम्पारिंग के लिए नया कीर्तिमान होगा। पोलोसाक ऑस्ट्रेलिया में 2017 में पुरुषों के घरेलू लिस्ट ए मैच में अंपायरिंग करने वाली पहली महिला हैं।

अंपायर का काम मैदान में नई गेंद लाना, अंपायरों के लिए ड्रिंक ले जाना, लंच और चाय के दौरान पिच की देखभाल और लाईटमीटर से रोशनी की जांच करने जैसी चीजें शामिल हैं। प्रत्येक परिस्थिति में मैदानी अंपायर के हटने के बाद तीसरे अंपायर को मैदान में सेवाएं देनी होती हैं जबकि अंपायर को टेलीविजन अंपायर की भूमिका निभानी होती है। क्लेयर पोलोसाक क्रिकेट के अम्पयारिंग की प्रत्येक भुमिका के लिए तैयार हैं।

यह भी पढेंः-लॉकडाउन में बढ़ गई कंडोम, रोलिंग पेपर की खपत, दिन में अधिक हुई खरीदारी

Most Popular