Saturday, December 4, 2021

इस भारतीय कप्तान ने लॉर्ड्स पर लगायें हैं तीन लगातार शतक, अब भी बल्लेबाजों के लिए दुलर्भ है उपलब्धि

Must read

- Advertisement -

दिल्ली। क्रिकेट हमेशा रिकाॅर्ड और खिलाड़ियों के बेहतरीन प्रदर्शन को लेकर जाना जाता है। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व बल्लेबाज दिलीप बलवंत वेंगसरकर ऐसे बेहतरीन बल्लेबाज रहे हैं जिनकों उनके खेल, प्रदर्शन और रिकाॅर्ड के लिए जाना जाता है। वेंगसरकर आज अपना 65वां जन्मदिन मना रहे हैं। वेंगसरकार का जन्म 6 अप्रैल 1956 को महाराष्ट्र के राजापुर में हुआ था। वह 70 के आखिर और 80 के दशक की शुरुआत में भारतीय टीम के दिग्गज बल्लेबाज और भरोसेमंद मध्यमक्रम में शामिल रहे हैं। 1983 से लेकर 1987 तक दिलीप वेंगसरकर ने मध्यक्रम में बल्लेबाजी किया था। उनके दौर में भारतीय टीम के बल्लेबाजी बेहद षानदार थी। दिलीप वेंगसरकर क्रिकेट के मक्का कहे जाने वाले लॉर्ड्स के मैदान पर लगातार तीन शतक लगाने वाले पहले गैर अंग्रेज बल्लेबाज रहे है। भारत की तरफ से सुनील गावस्कर और सचिन तेंदुलकर जैसे महान बल्लेबाज भी यह उपलब्धि हासिल नहीं कर पाये हैं।
दिलीप वेंगसरकर ने साल 1979 में लॉर्ड्स के मैदान पर 0 और 103, साल 1982 में 2 और 157 और साल 1986 में नाबाद 126 और 33 रन की पारियां खेली थी। दिलीप वेंगसरकर ने लॉर्ड्स के मैदान पर चार टेस्ट खेलते हुए 72.57 की औसत से 508 रन बनाए थे। आखिरी बार दिलीप साल 1990 में लॉर्ड्स मैदान में खेले लेकिन शतक बनाने से चुक गये। पहली पारी में उन्होंने 52 और दूसरी पारी में 35 रन बनाए थे। दिलीप वेंगसरकर ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट कॅरिअर 1975-76 में न्यूजीलैंड के खिलाफ शुरू किया था। उन्होंने भारत के लिए ओपनिंग भी की है। दिलीप वेंगसरकर 1983 में विश्व कप जीतने वाली टीम का भी हिस्सा भी रहे हैं। दिलीप वेंगेसरकार को लोग प्यार से कर्नल नाम से पुकारते रहे हैं।

- Advertisement -

dilp vengsarkar

यह भी पढ़ेंः-वर्ल्ड कप के लिए अनिल कुंबले ने चुनी टीम, चौथे नंबर पर इस खिलाड़ी को दी जगह

1985 से 1987 के बीच दिलीप वेंगसरकर ने टीम के लिए अच्छे खासे रन बनाए। उन्होंने इस दौरान पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, वेस्टइंडीज और श्रीलंका के खिलाफ शतक लगाये। 1987 के वर्ल्डकप के बाद दिलीप वेंगसरकर कपिल देव को हटा कर कप्तानी के लिए चुने गए थे। वेंगसरकर ने कप्तानी की शुरुआत दो शतकों के साथ की। वेंगसरकार की कप्तानी मुश्किलों में फंसती रही। 1989 में वेस्टइंडीज के दौरे के बाद उनकी कप्तानी छिन गई।

dilip vengsarkar worldcup

दिलीप वेंगसरकर ने 10 टेस्ट मैचों में भारत की कप्तानी की थी। वेंगसरकर का आखिरी इंटररनेशनल मैच 1992 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पर्थ में रहा। जिसमें वह दोनों ही पारियां में 10 रन का आंकड़ा भी पार नहीं कर पाये। वेंगसरकर ने 116 टेस्ट और 129 वनडे मैचों में भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व किया। जिसमें 42.13 की औसत से 6868 रन बनाए। 17 शतक और 35 अर्धशतक शामिल रहे। वेंगसरकर ने 129 वनडे मैचों में 34.73 की औसत से 3508 रन बनाये। एकदिवसीय में उनके नाम एक शतक है।

यह भी पढ़ेंः-सहवाग को रोकने का कोई सवाल नहीं उठता क्योंकि आक्रामक खेलना उनका तरीका है

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article