rishav pant

दिल्ली। क्रिकेट में नियम किसी टीम को फायदा पहंुचाते दिखते हैं तो किसी टीम को उसका नुकसान होता है। ऐसा ही भारत आर इंग्लैंड के बीच खेले गये दूसरे टेस्ट मैच के बीच हुआ। दूसरे मैच में ऋषभ पंत और भारतीय टीम को अंपायर के फैसले के कारण 4 रनों का नुकसान हुआ। ये वाकया भारत की पारी के 40वें ओवर में हुआ। इंग्लैंड के तेज गेंदबाज टॉम कुरेन की गेंद पर ऋषभ पंत ने रिवर्स स्कूप खेला। गेंद बल्ले के अंदरूनी किनारे से लगकर बाउंड्री चली गई। इस तरह देखा जाये तो ऋषभ पंत को चार रन मिलने चाहिए थे। टॉम करेन ने इस दौरान अपील की। अंपायर वीरेंद्र शर्मा ने पंत को स्टम्प करार दिया। पंत ने अंपायर के फैसले को चुनौती दी और डीआरएस लेने का फैसला लिया। रिप्ले में साफ था कि गेंद बल्ले से लगकर ही गई थी। थर्ड अंपायर ने पंत को नॉट आउट दिया। पंत को चार रन नहीं मिले और गेंद डेड हो गई। गेेद डेड हो जाने से पंत चार रन से वंचित हो गये। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) के नियम के अनुसार अंपायर अगर किसी गेंद पर खिलाड़ी को आउट दे देता है तो वह गेंद डेड हो जाती है। डेड गेंद पर रन नहीं माना जाता है। फिर उस पर बनने वाले रन मान्य नहीं होते हैं। हालांकि इस घटना के बाद एक बार फिर पूर्व खिलाड़ियों ने आईसीसी के नियम को लेकर सवाल उठाए हैं। गेंद पर बल्लेबाज आउट नहीं हुआ, इसलिए गेंद डेड नहीं मानी जा सकती है।

यह भी पढ़ेंः-Rishabh Pant की तूफानी शतक ने दिलाई भारत को बढ़त, रोचक मोड़ पर पहुंचा मैच

भारत के पूर्व ओपनर आकाश चोपड़ा सोशल मीडिया पर लिखा कि अंपायर की गलती के कारण ऋषभ पंत को चार रन गंवाने पड़े। टीम को चार रन से वंचित होना पड़ा। इसे करोड़ों बार दोहराया जा चुका है। आकाश चोपड़ा ने लिखा कि अगर विष्व कप के फाइनल में लक्ष्य का पीछा करने वाली टीम के साथ ऐसा होता है और जीतने के लिए 2 रन बनाने हों। सोचो, सोचो।

ज्ञात हो कि वनडे सीरीज के दूसरे मैच में ऋषभ पंत ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की। उन्होंने महज 28 गेंदों में अर्धशतक पूरा किया। पंत ने 40 गेंदों पर तीन चैके और सात छक्के की मदद से 77 रन बनाये। पंत ने शानदार बल्लेबाजी की। उन्होंने केएल राहुल के साथ चैथे विकेट के लिए 113 रनों की साझेदारी की। इस फैसले के बाद अब आईसीसी के नियम को लेकर चर्चा तेज हो गयी है। गेंद डेड होने की स्थितियों को परखा जाएगा।

यह भी पढ़ेंःटीम इंडिया के लिए बुरी खबर, विराट कोहली पर लग सकता है बैन, ICC लेगी एक्शन