Ieam india

दिल्ली। भारत और न्यूजीलैंड ( India vs New Zealand) के बीच आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल मुकाबला 18 जून से साउथैम्पटन के एजिस बाउल में खेला जाएगा। मैच को लेकर दोनों टीमों में गजब का उत्साह है। उम्मीद है कि टीम इंडिया दो स्पिनर्स और तीन तेज गेंदबाजों के साथ मैदान पर उतरेगी। स्पिनर्स के रूप में रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा का नाम तय माना जा रहा है। तेज गेंदबाजों को लेकर अभी स्थिति पूरी तरह साफ नहीं। भारतीय टीम के सभी खिलाड़ियों और तेज गंेदबाजों में जमकर दावेदारी है। जसप्रीत बुमराह भारतीय टीम के पेस अटैक, तेज गेंदबाजी का नेतृत्व करते हैं। जसप्रीत बुमराह का अंतिम एकादश में खेलना तय माना जा रहा है। वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में उन्होंने 22.41 की औसत से 34 विकेट हासिल किए हैं।

मोहम्मद शमी को गेंद को स्विंग करने में महारत हासिल है। वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप की 18 पारियों में उन्होंने 19.77 की औसत से 36 विकेट हासिल किए हैं। उनके अटैक और रिकॉर्ड बहुत अच्छा है। मोहम्माद शमी प्लेइंग इलेवन में जरूर शामिल किए जाएंगे। भारत के लिए 101 टेस्ट खेल चुके इशांत शर्मा अपनी गेंदबाजी के शिखर पर हैं। इशांत को अपने शानदार तजुर्बे के दम पर प्लेइंग इलेवन में जगह मिलेगी। इशंांत को इंग्लैंड में खेलने का भी अनुभव हासिल है। इशांत ने वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में 17.36 के बेहतरीन औसत से 36 विकेट लिए हैं। मोहम्मद सिराज ने ऑस्ट्रेलिया दोरे पर अपने टेस्ट कॅरिअर की शुरुआत की थी। उन्होंने अपने बेहतरीन खेल और गेंदबाजी से सभी को प्रभावित किया है। उन्हें लंबी रेस का घोड़ा बताया जाता है।

सिराज को महज 5 टेस्ट और 2 सीरीज का ही अनुभव है। इस दौरान उन्होंने 10 पारियों में 28.25 की औसत से 16 विकेट हासिल किए हैं। काफी कम अनुभव होने के कारण सिराज का इस बड़े मैच के लिए चुना जाना मुश्किल है। उमेश यादव एक बेहतरीन तेज गेंदबाज हैं लेकिन बुमराह, शमी और इशांत जैसे दिग्गजों के रहते उनकी जगह पक्की नहीं है। उमेश को बेंच पर बैठना पड़ सकता है। हालांकि वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में 18.55 की शानदार औसत से उमेश ने 29 विकेट अपने नाम किए हैं। ज्ञात हो कि मैच के लिए दोनों टीमें तैयार हैं।

ये भी पढ़ेंः-आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप और इंग्लैंड सीरीज के लिए टीम घोषित होते ही विरोध शुरू, कई खिलाड़ियों को किया गया नजरअंदाज