nathan loyan

दिल्ली। भारत और इंग्लैंड की टेस्ट सीरीज में तीन टेस्ट मैच खेले जा चुके हैं जिसमे भारत ने 2-1 की बढ़त बनायी हुई है। भारत ने दोनों मैच स्पिनरों की मददगार पिच पर जीते हैं जिससे पिच को लेकर आलोचना तेज हो गयी है। भारतीय खिलाड़ी इस मामले पर लगातार पिच को लेकर दोनों पक्ष रख रहे हैं। वर्तमान खिलाड़ी पिच के साथ खड़े हैं तो वरिष्ठ पिच की आलोचना कर रहे है। दो दिनों में ही टेस्ट मैच का खत्म हो जाना टेस्ट क्रिकेट के लिए दुर्भाग्यपूर्ण है। पिच को लेकर टीम इंडिया के खिलाड़ियों के नजरिये पर सहमति जताने वालों में अब ऑस्ट्रेलिया के ऑफ स्पिनर नाथन लॉयन भी शामिल हो गये है। ऑस्ट्रेलिया टेस्ट टीम के नियमित सदस्य नाथन लॉयन ने कहा है कि दुनिया भर में जब सीम पिचों पर टीमें कम स्कोर पर ढेर हो जाती हैं तब विवाद क्यों नहीं होता? लॉयन ने कहा कि हम पूरे विश्व में सीम पिचों पर खेलते हैं और 47, 60 जैसे स्कोर पर ऑलआउट हो जाते हैं। ऐसी स्थिति में पिच को लेकर कभी किसी ने कुछ नहीं कहा। लाॅयन ने कहा कि जैसे ही पिच स्पिनरों की मददगार मिलती है तो पूरे विश्व में लोगों को दिक्कत होने लगती है और वह रोने लगते हैं।

यह भी पढ़ेः-दो दिनों में मिली टेस्ट जीत से अब मोटेरा की पिच आ गयी ऐसे निशाने पर

उन्होंने कहा कि लोगों को अब पिच की आलोचना करनी बंद कर देनी चाहिए। इस टेस्ट मैच की सबसे अच्छी चीज यह रही कि इंग्लैंड तीन तेज गेंदबाजों के साथ उतरा था। यह मेरे लिए काफी है, मुझे कुछ और कहने की जरूरत नहीं है। लाॅयन ने कहा कि मैंने पूरी रात जागकर मैच देखा था, जिसके बाद मैं सोच रहा था कि क्यूरेटर को अपने यहां सिडनी क्रिकेट ग्राउंड के लिए बुला लूं। उन्होंने कहा कि स्पिनरों के हिसाब से पिच नहीं होगी तो गेंदबाजी की एक विधा कैसे आगे बढ़ेगी। तेज और स्पिन दोनों तरह की पिच होनी चाहिए।

ज्ञात हो कि सीरीज का आखिरी मैच भी मोटेरा के मैदान पर ही खेला जाएगा। भारत को विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल में जगह बनाने के लिए आखिरी मैच में जीत या ड्रॉ की जरूरत है। माना जा रहा है कि आखिरी टेस्ट के लिए बल्लेबाजी की मददगार पिच तैयार की जाएगी।

यह भी पढ़ेः-पिच पर बवाल : रोहित शर्मा के समर्थन में आ गये इंग्लैंड के पूर्व कप्तान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here