क्रिकेट फैंस के लिए बड़ी खुशखबरी, युवराज सिंह ने संन्यास से फिर मैदान में की वापसी, जानें पूरी खबर

122
yuvraj singh

भारतीय क्रिकेटरों से जुड़े फैंस के लिए बड़ी खुशखबरी सामने आई है. जी हां अपने जबरदस्त सिक्सर के लिए पूरी दुनिया में एक अजूबा रिकॉर्ड बनाने वाले क्रिकेटर ने फिर से मैच में वापसी करने का ऐलान किया है. दरअसल हम बात कर रहे हैं कि सिक्सर किंग युवराज सिंह की, जिन्होंने 10 जून 2019 को क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास लेने की घोषणा की थी. युवराज सिंह आज भी अपने छक्कों के लिए पूरी दुनिया में मशहूर हैं. कई ऐसे मौके भी सामने आए हैं जब उन्होंने टीम इंडिया की नइया को पार लगाया है. लेकिन खुशी की बात तो ये है कि अब संन्यास से क्रिकेटर वापसी कर रहे हैं.

दरअसल ताजा खबरों की माने तो युवराज सिंह घरेलू टी-20 क्रिकेट में वापसी करने का मन बना चुके हैं. अब वो पंजाब की सरजमीं पर क्रिकेट खेलने के लिए तैयार हो गए हैं. खबरों की माने तो पंजाब क्रिकेट एसोशिएशन ने युवराज सिंह से सैयद मुश्ताक अली टी-20 ट्रॉफी में हिस्सा लेने की बात कही थी. जिसके लिए युवराज सिंह मान गए हैं. खास बात तो ये है कि इस जानकारी पर मुहर खुद युवराज सिंह ने अपने बयान के जरिए लगाई है. बता दें कि क्रिकबज की ओर से जारी की गई एक रिपोर्ट की माने तो, युवराज सिंह ने बताया है कि, “मुझे पंजाब के इन युवा खिलाड़ियों के साथ खेलना और उनके साथ वक्त बिताना अच्छा लगता है. जब मैनें इन खिलाड़ियों से कई पहलुओं को लेकर बातचीत की तो मुझे इस बात का अंदाजा हुआ कि, मैं उनकी काफी मदद कर सकता हूं.

इतना ही नहीं आगे युवराज सिंह ने तो ये भी कहा कि मुझे इस बात का सुखद आश्चर्य हुआ कि मैं गेंद को कितनी अच्छी तरह से खेल पा रहा था, हालांकि काफी लंबा वक्त बीत चुका है और मैंने बल्ले को हाथ भी नहीं लगाया था, लेकिन जब मैंने प्रैक्टिस की तो, गेंद मेरे बल्ले से सही तरह से निकल रही थी.” इसके साथ ही युवराज सिंह ने ये भी बताया है कि, “मैंने ऑफ-सीजन शिविर में खेलने की शुरूआत कर दी थी. मैंने जब मैदान में प्रैक्टिस की तो उस समय बल्ले से रन भी निकले. उन्होंने आगे बताया कि इसके लिए उनसे पंजाब क्रिकेट एसोसिएशन के सचिव श्री पुनीत बाली ने बात की थी. साथ ही सवाल किया था कि क्या मैं संन्यास से वापसी करने को लेकर फिर से विचार करूंगा.

क्रिकेटर ने कहा कि जब ये सवाल उन्होंने पूछा तब मुझे इस बात का अंदाजा तक नहीं था कि मैं इस प्रस्ताव पर विचार करूंगा या नहीं. क्योंकि बीसीसीआई की अनुमति मिलने के बाद मैं दुनिया में सभी घरेलू फ्रेंचाइजी-आधारित लीग में खेल जारी रखना चाहता था. लेकिन इसके साथ ही मैं श्री बाली की ओर से किए गए अनुरोध को भी नकार नहीं पा रहा था. इसलिए मैनें काफी ज्यादा सोच विचार करने के बाद तकरीबन तीन या फिर चार हफ्ते के अंदर हां करने का फैसला कर दिया.”

इतना ही नहीं उन्होंने आगे अपनी घरेलू क्रिकेट में वापसी के पीछे की वजह भी बताई है. युवराज सिंह का कहना है कि, “मेरी प्रेरणा पंजाब की चैंपियनशिप जीतने में काफी मददगार भूमिका निभा सकती है. भज्जी (हरभजन सिंह), खुद, हमने टूर्नामेंट पर जीत हासिल की है. यदि मैं पंजाब क्रिकेट के विकास में अपनी भूमिका निभा सकता हूं, तो ये बहुत ही अच्छा अनुभव होगा. क्योंकि पंजाब के लिए खेलना मेरे अंतरराष्ट्रीय करियर का मार्ग है.”