‘छोटे धोनी‘ ने छक्का लगा कर जीता विश्वकप का खिताब, अंडर-19 टीम मना रही जश्न

0
445
under 19 team

नई दिल्ली। भारत की जूनियर टीम, अंडर-19 टीम ने शानदार प्रदर्शन करते हुए शनिवार को वर्ल्ड कप 2022 अपने नाम किया। वेस्टइंडीज में खेले गए इस रोमांचक फाइनल में भारत ने इंग्लैंड को मात दी। यह पांचवां अवसर है, जब भारत ने अंडर-19 वर्ल्डकप का खिताब अपने नाम किया है। पांच बार खिताब जीतने वाली दुनिया की इकलौती टीम भारत है। फाइनल में भारतीय टीम को 4 विकेट से जीत हासिल हुई है। इंग्लैंड ने 190 रनों का ही लक्ष्य दिया था। अंत में जब टीम इंडिया को कुछ ही रनों की जरूरत थी, तब हरियाणा के हिसार के रहने वाले विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश बाना ने दो छक्के लगाये। छक्का मार कर टीम इंडिया को चैम्पियन बनाने वाले बाना ने मुम्बई की विश्वकप 2011 की यादें ताजा कर दी। उस मैच में एमएस धोनी ने छक्का मार कर मैच जीता था।

under 19 team

आखिर में बल्लेबाजी करने आए दिनेश ने सिर्फ 5 बॉल में 13 रन बनाये। दिनेश के 13 रनों में दो छक्के शामिल थे। दिनेश की बल्लेबाजी में विशेष रहा कि उन्होंने छक्का लगा कर टीम इंडिया को वर्ल्डकप जितवाया। हिसार के सेक्टर-14 के रहने वाले दिनेश बाना को छोटा धोनी कहा जाता है क्योंकि वह विकेटकीपर हैं और लंबे छक्के जड़ने का उन्हें शौक भी है। दिनेश बाना के घर पर भी वर्ल्डकप जीत के बाद जश्न का माहौल है। वह इससे पहले ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सेमीफाइनल में भी दिनेश चमके थे। इसी साल वीनू मांकड़ टूर्नामेंट में भी दिनेश बाना ने तीन पचासा बनाया था। इस शानदार प्रदर्शन के साथ ही अब दिनेश बाना एक नेशनल हीरो बन गए हैं, जिन्होंने टीम इंडिया को वर्ल्डकप जितवाने में अहम भूमिका निभाई।

under 19 team

ज्ञात हो कि भारत ने इससे पहले साल 2000, 2008, 2012 और 2018 में अंडर-19 विश्व कप जीता था। 2022 अंडर-19 विश्व कप में भारत के युवा विजेताओं ने फाइनल में इंग्लैंड को हराकर ट्रॉफी अपने नाम की। इस टूर्नामेंट में भारत ने कोरोना वायरस का भी सामना किया था। भारतीय टीम के कई खिलाड़ी एक साथ कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे लेकिन भारतीय टीम का विजय रथ ना कोरोना वायरस रोक पाया और ना ही वो 6 टीमें जिन्हें भारत ने इस टूर्नामेंट में एक-एक कर हराया। भारतीय टीम के शानदार प्रदर्शन पर तारीफ हो रही है।
अंडर-19 वर्ल्ड कप विजेता टीम के कप्तान यश ढुल ने मैच के बाद टीम की कामयाबी के बारे में बात करते हुए सभी खिलाड़ियों की जमकर तारीफ की। ढुल ने सफलता का श्रेय टीम के प्रयास को दिया और कहा कि यह उनके और टीम के साथियों के लिए गर्व का क्षण है। हम विश्वकप विजेता बन चुके हैं।

ज्ञात हो कि अब अंडर-19 वर्ल्ड कप जीतने के बाद कप्तानी यश ढुल का जीवन भी पूरी तरह बदल सकता है। दिल्ली का यह युवा खिलाड़ी नहीं चाहता कि प्रसिद्धि और प्रशंसा उसे परेशान करे। यश अभी पूरी तरह से अपने खेल पर ध्यान देना चाहते हैं।

ये भी पढ़ेंःटीम इंडिया ने जीता अंडर-19 वर्ल्ड कप, शानदार प्रदर्शन पर BCCI ने की इनामों की बारिश