Rishabh

वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल (WTC Final 2021) के बाद सभी भारतीय क्रिकेटरों को तीन हफ्ते की छुट्टी दी गई. इन छुट्टियों के शुरू होने से पहले ही बहुत से विशेषज्ञों ने अनुमान लगाया था कि इन खिलाड़ियों पर कोविड-19 के संक्रमण का खतरा मंडरा सकता है और वैसा ही हुआ. भारत-इंग्लैंड सीरीज (India vs England) शुरु होने से पहले ही ऋषभ पंत (Rishabh Pant) और थ्रोडाउन विशेषज्ञ दयानंद जारानी को कोरोना हो गया. तो वहीं गेंदबाजी कोच भरत अरुण, रिजर्व विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा (Wriddhiman Saha) और स्टैंडबाय सलामी बल्लेबाज अभिमन्यु ईश्वरन को बाकियों से अलग रखा गया है. क्योंकि ये तीनों दयानंद के साथ थे.

संक्रमण के स्रोत का पता लगाना असंभव

वैसे तो इस बात का पता लगाना असंभव है कि संक्रमण किस स्रोत से हुआ, लेकिन ऐसा कहा जा रहा है कि जब ऋषभ पंत डेंटिस्ट (दांतों का डॉक्टर) के पास गए थे तभी वो संक्रमित हुए थे. ऋषभ की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट 8 जुलाई को आई थी, जिसके बाद से वो 8 दिनों से ही क्वारंटीन हैं.

एक रिपोर्ट के अनुसार 5 औऱ 6 जुलाई को ऋषभ डेंटिस्ट के पास गये. तभी इसी समय भारतीय टीम के खिलाड़ियों, स्टॉफ और उनके परिवारों को कोरोना वैक्सीन का दूसरा डोज लिया. एक सूत्र ने बताया था कि , ‘पंत 5 और 6 जुलाई को एक डेंटिस्ट के पास गए थे और वहां वायरस से संक्रमित हुए होंगे. 7 जुलाई को उसे टीका लगाया गया था.” इसके अलावा ऋषभ 29 जून को वेम्बले स्टेडियम में यूरो 2020 में इंग्लैंड बनाम जर्मनी का मैच देखने भी गये थे.

बीसीसीआई के सचिन जय शाह ने दिया बयान

बीसीसीआई के सचिन जय शाह ने अपने आधिकारिक बयान में बोला था कि, ‘पंत ब्रेक के दौरान टीम होटल में नहीं थे. वह आठ जुलाई को कोरोना पॉजिटिव हुए थे. उनमें कोई लक्षण भी नहीं है और वह उसी स्थान पर पृथकवास में ही रह रहे हैं , जहां वह पॉजिटव पाये गए थे. बीसीसीआई की मेडिकल टीम लगातार उनकी निगरानी में है और अब वह रिकवर हो रहे हैं . वह दो नेगेटिव आरटी पीसीआर टेस्ट आने के बाद ही डरहम में टीम से जुड़ेंगे.’

इस पर सौरव गांगुली ने कहा कि हर समय मास्क पहना जा सकें, ये असंभव हैं. इस पर उन्होंने कहा कि ‘हमने इंग्लैंड में यूरो चैंपियनशिप और विंबलडन देखा है. नियम बदल गए हैं (मैदान के अंदर दर्शकों को आने की अनुमति है). वे छुट्टी पर थे और हर समय मास्क पहनना शारीरिक रूप से असंभव था.’

यह भी पढे़ं:-भारतीय पत्रकार Danish Siddiqui की अफगानिस्तान में हुई हत्या, जंग को कर रहे थे कवर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here