Raksha Bandhan

हिंदू पंचांग के अनुसार इस बार 22 अगस्त दिन रविवार को रक्षा बंधन का त्योहार मनाया जाएगा। क्या आपको पता है कि बहनें अपने भाई की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधने से पहले रक्षा बंधन स्पेशल थाली कैसे तैयार करती हैं। इसके लिए रक्षा बंधन के दिन पूजा की थाली पर गंगा जल छिड़क कर उसमें कुमकुम या रोली रखनी चाहिए। इसी कुमकुम से बहनों को भाई का तिलक करना चाहिए।

 राखी बांधते समय भाई के सिर को कपड़े से ढका जाता है. राखी बंधवाने के बाद बहनें अपने भाई को नारियल देती हैं. इसलिए ये दोनों चीजें भी थाली में रखी जाती हैं. (Image-Shutterstock)बता दें कि थाली में पूजा के चावल यानी अक्षत का होना बेहद आवश्यक है। हिंदू धर्म में तिलक के साथ अक्षत को भी माथे पर लगाने का महत्व है मगर इस बात का विशेष ध्यान रखें कि ये चावल खंडित न हों। राखी बांधते वक्त भाई के सिर को कपड़े से जरूर ढंके। इसके बाद राखी बंधवाने के बाद बहनें अपने भाई को नारियल देती हैं। इसी वजह से ये दोनों चीजें भी थाली में रखी जाती हैं।

 आपको बता दें कि थाली में पूजा के चावल यानी अक्षत का होना बहुत जरूरी है. हिंदू धर्म में तिलक के साथ अक्षत को भी माथे पर लगाने का विशेष महत्व है लेकिन ध्यान रहे कि चावल खंडित न हों. (Image-Shutterstock)राखी को रक्षाबंधन के त्योहार के दिन थाली में बहनें सजाती हैं। इस दिन बहनें अपने भाई के लिए खूबसूरत राखी खरीद कर उसे भाई की कलाई पर बांधती हैं। चाहें तो बहनें अपने भाई के लिए कोई उपहार भी रख सकती हैं। राखी बांधने के बाद बहनें मिठाई खिला कर अपने भाई का मुंह मीठा करती हैं इसलिए आप भी अपने भाई की पसंद की मिठाई थाली में जरूर रखें।

 रक्षा बंधन के दिन पूजा की थाली पर गंगा जल छिड़क कर उसमें कुमकुम या रोली रखें. इसी कुमकुम से बहनें भाई का तिलक करती हैं. (Image-Shutterstock)इसके बाद भाई की कलाई पर जब राखी बांध लेने उसके बाद बहन थाली में रखे दीपक से उनकी आरती उतारती है। मान्यता है कि गंगाजल से भरा कलश भी थाली में रखना शुभ होता है। इस शुद्ध जल से ही भाई को टीका किया जाता है।

इसे भी पढ़ें:- तालिबान की बातों पर भरोसा नहीं करता भारत, अफगानिस्तान से नागरिकों को सुरक्षित निकालना पहली प्राथमिकता : विदेश मंत्री