Vastu Tips for Sleep

पूरे दिन की मेहनत के बाद थके शरीर को रात (Night) में आराम (Rest) देना बेहद आवश्यक होता है, मगर अच्‍छी नींद (Good Sleep) के साथ-साथ यह भी आवश्यक है कि इससे जुड़ी कुछ चीजों का पालन भी किया जाए। हिंदू धर्म शास्‍त्रों में और खास करके वास्तु शास्‍त्र (Vastu Shastra) में सोने से संबंधित कुछ ऐसे नियम बताए गए हैं जिनका पालन करने से व्यक्ति पूरी जिंदगी खुशहाल रहता है। इनका नियमों का पालन करने व्‍यक्ति की शारीरिक-मानसिक सेहत, आर्थिक स्थिति आदि चीजें बहुत ठीक रहती हैं। आज हम आपको बताते हैं कि सोते वक्त दिशाओं (Directions), सोने के तरीके, जगह आदि का ध्‍यान कैसे और क्‍यों रखना आवश्यक होता है।

सोते समय इन आवश्यक बातों का रखें ध्‍यान

  1. वास्तु शास्त्र (Vastu) के अनुसार पूर्व की दिशा की तरफ सिर करके सोना बहुत ही शुभ रहता है। इस प्रकार से सोने से सकारात्मकता और पठन-पाठन में एकाग्रता बढ़ती है। पश्चिम दिशा की ओर सिर करके सोना भी बेहद अच्‍छा होता है, इससे यश-कीर्ति में बढ़ोतरी हो जाती है।
  2.  वास्तु में उत्तर दिशा को बेहद ही शुभ दिशा माना गया है मगर इस दिशा की तरफ सिर करके सोने से कई तरह की बीमारियां भी होती हैं। जिससे धन और शरीर की परेशानियां होती है।
  3.  दक्षिण दिशा की ओर सिर करके सोने से नकारात्मक विचार नहीं आते हैं। इस दिशा में सिर करके सोने से तनाव भी नहीं होता है। साथ ही दक्षिण दिशा में सिर करके सोने से सुख-समृद्धि में बढ़ोतरी होती है।
  4. हिंदू शास्त्रों में कहा गया है कि टूटी खाट-पलंग पर या गंदे बिस्‍तर पर कभी नहीं सोना चाहिए।
  5. यहां तक कि कभी जूठे मुंह नहीं सोना चाहिए। हमेशा सोने से पहले हाथ-पैर अवश्य धोना चाहिए।
  6. याद रखें कभी भी निर्वस्त्र होकर न सोएं।
  7. कभी भी सूने-निर्जन घर, श्मसान, मंदिर के गर्भगृह और अंधेरे कमरे में भी सोने से बचना चाहिए।

(नोट: इस लेख में दी गई सूचनाएं सामान्य जानकारी और मान्यताओं पर आधारित हैं। Upvartanews इनकी पुष्टि नहीं करता है।)

इसे भी पढ़ें:- 15 दिन पहले हुआ अंतिम संस्कार, अब वापस घर लौटी महिला, परिजन हैरान, जानें पूरा माजरा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here