बहुत जल्द सूर्य करेंगे गोचर, आशीर्वाद और लाभ पाने के लिए राशिनुसार करें आसान उपाय

258
surya gochar 2020

सूर्य का राशि परिवर्तन राशियों के लिए काफी अहम माना जाता है. ज्योतिषीय गणना की मानें तो इस महीने सूर्य 16 सितंबर को कन्या राशि में प्रवेश कर रहा है जो 17 अक्टूबर तक रहेगा. इस घटना को ज्योतिषी भाषा में ‘कन्या संक्रांति’ के नाम से भी जाना जाता है. ज्योतिष मान्यता है कि, जिन जातकों पर सूर्य देव का आशीर्वाद होता है उसे समाज में मान-सम्मान के साथ-साथ धन लाभ, सरकारी नौकरी आदि की प्राप्ति होती है. कुल मिलाकर राशि में सूर्य का शुभ होना कई मायनों में बेहद लाभकारी होता है. सूर्य 16 सितंबर को गोचर कर रहा है तो चलिए जानते हैं कि राशि अनुसार आप कौन-से आसान उपाय कर सकते हैं.

राशि अनुसार करें आसान उपाय

मेष राशि
रविवार का दिन सूर्यदेव का माना जाता है. इसलिए प्रत्येक रविवार सूर्योदय के वक्त सूर्यदेव की उपासना करें और ॐ घृणि सूर्याय नमः मंत्र का जप करें.

वृषभ राशि
नियमित रूप से सूर्यदेव को जल अर्पित करें और सूर्योदय के समय आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ करें.

कर्क राशि
प्रातः स्नान आदि कर सूर्यदेव को जल अर्पित करें और रविवार के दिन गुड़ का दान करें.

सिंह राशि
सूर्य के गोचर के दौरान केसरिया रंग के वस्त्र ज्यादा पहनें. अगर संभव हो तो नियमित रूप से वरना रविवार के दिन ही धारण करें.

कन्या राशि
सूर्य देव को जल अर्पित करने के साथ किसी जरूरतमंद व्यक्ति को गुड़ व चने का रविवार को दान करें.

तुला राशि
सूर्यदेव की आराधना के साथ बड़ों का भी सम्मान करें और उनकी सेवा करें. खासतौर से पिता की सेवा करें.

वृश्चिक राशि
प्रतिदिन पूजा के दौरान माथे पर नारंगी चंदन तिलक लगाएं और रविवार को नारंगी रंग के ही वस्त्र पहनें.

धनु राशि
हर दिन उगते हुए सूरज को प्रणाम करें और अर्घ्य दें. इसके साथ-साथ सूर्य बीज मंत्र का जाप करें.

मकर राशि
अगर आप प्रतिदिन सूर्योदय के समय विधिनुसार सूर्य भगवान की पूजा करेंगे तो आपको जरूर सूर्यदेव का आशीर्वाद प्राप्त होगा.

कुंभ राशि
सूर्यदेव को अर्घ्य देने के साथ रविवार के दिन गाय माता को गुड़ खिलाएं. इसके साथ घर के बड़ों की सेवा और सम्मान करें.

मीन राशि
सूर्यदेव की आराधना करते हुए ॐ ओम घृणि सूर्याय नमः मंत्र का जाप करें, नियमित या रविवार के दिन उगते सूर्य को जल चढ़ाएं. ऐसा करने से सूर्य देव की विशेष कृपा प्राप्त होती है.

ये भी पढ़ेंः- सूर्य देव को अर्घ्य देने से बनते हैं बिगड़े काम, लेकिन भूलकर भी ना करें इन 6 गलतियों को