देवो के देव महादेव कहे जाने वाले भगवान शिव के एक नहीं 108 नाम हैं और हर नाम का अपना एक महत्व और मतलब है। महादेव की पूजा करने से मनुष्य को समस्त सांसारिक सुखों की प्राप्ति होती है। भगवान शिव की सात्विक ही तांत्रिक पूजा भी की जाती है। भक्त अपनी-अपनी शक्ति और भक्ति के अनुसार शिवजी के विभिन्न रूप की आरधना करते हैं। भगवान शिव ही एक ऐसे ईश्वर हैं, जिनकी पूजा प्रतिमा और शिवलिंग के रूप में अलग-अलग होती है। भगवान शंकर की पूजा उनके परिवार समेत करना अनिवार्य होता है और शिवलिंग की पूजा में शिवजी को अकेले या देवी पार्वती के साथ पूजा जाता है। शिवजी के

भगवान शिवजी के जन्म की कथा में छुपा है रहस्य, यह थे इनके पिता - Namo Namo |  DailyHuntजन्म से जुड़ी बातें शिव पुराण में उल्लेखित हैं। शिवजी के माता-पिता कौन है यह जानकारी भी शिव पुराण में मौजूद है। तो आइए आपको शिव जी से जुड़े कुछ रोचक तथ्य बताएं।

हिंदू धर्म के प्रमुख देवताओं में भगवान शिवजी का स्थान सर्वोच्च है। भगवान शिव मनुष्य के मन को पढ़ने वाले माने गए हैं। कहा जाता है कि शिवजी के शरण में आने भर से भगवान अपने भक्त के कष्ट और कामनाओं को समझ लेते हैं. भगवान शिव जी ने अपने शरीर से देवी शक्ति की सृष्टि की है जो उनके अपने अंग से कभी अलग होने वाली नहीं थी देवी शक्ति को पार्वती के रूप

भगवान शिवजी के जन्म की कथा में छुपा है रहस्य, यह थे इनके पिता - Namo Namo |  DailyHuntमें जाना गया है और भगवान शिव को अर्धनारिश्वर के रूप में जाना जाता है देवी शक्ति को प्रकृति गुणवती बुद्धितत्व की जननी तथा विकार रहित माना गया है श्रीमद् देवी महापुराण के अनुसार भगवान शिव के पिता के लिए भी एक कथा है।

देवी महापुराण के अनुसार एक बार जब नारद जी ने अपने पिता ब्रह्मा जी से सवाल किया कि इस सृष्टि का निर्माण किसने किया है? आप ने भगवान विष्णु ने या फिर भगवान शिव जी ने, इन तीनों को जन्म किसने दिया है यानी आप तीनों के माता पिता कौन है तब ब्रह्मा जी ने नारद जी से त्रिदेवों के जन्म की गाथा का वर्णन करते हुए कहा कि देवी दुर्गा और शिव स्वरूप ब्रह्मा के योग से ब्रह्मा विष्णु और महेश की उत्पत्ति हुई है यानी प्रकृति स्वरूप दुर्गा ही माता है और ब्रह्मा यानी काल सदाशिव पिता है एक बार श्री

भगवान शिवजी के जन्म की कथा में छुपा है रहस्य, यह थे इनके पिता - Namo Namo |  DailyHuntब्रह्मा जी और श्री विष्णु जी का इस बात पर झगड़ा हो गया कि ब्रह्मा जी ने कहा कि मैं तेरा पिता हूं क्योंकि यह सृष्टि मुझसे उत्पन्न हुई है मैं प्रजापिता हूं इस पर विष्णु जी ने कहा कि मैं तेरा पिता हूं तू मेरी नाभि कमल से उत्पन्न हुआ है।

जब इन दोनों का झगड़ा हो रहा था तब सदा शिव ने विष्णु जी और ब्रह्मा जी के बीच में आकर कहा, है पुत्रों मैंने तुमको जगत की उत्पत्ति और स्थिति रूपी दो कार्य दिए हैं इसी प्रकार मैंने शंकर और रूद्र को दो कार्य संहार और तिरोगति दिए हैं मुझे वेदों में

आखिर कैसे हुआ भगवान शिव का जन्म और कौन हैं इनके पिता, इस पौराणिक कथा में  छिपा है रहस्यब्रह्म कहा है मेरे पांच मुख हैं एक मुख से अकार (अ) दूसरे मुख से उकार (उ) तीसरे मुख से मुकार (म) चौथे मुख से बिन्दु (.) तथा पाँचवे मुख से नाद (शब्द) प्रकट हुए हैं उन्हीं पाँच अववयों से एकीभूत होकर एक अक्षर “ऊँ” बना है यह मेरा मूल मंत्र है।

इसे भी पढ़ें-राहुल गांधी के खुद को कश्मीरी पंडित बताने पर भड़की बीजेपी, कहा- दादा फिरोज गांधी को भूल गए क्या