शारदीय नवरात्रि में तीन सर्वार्थसिद्धि योग, जानिए किस वाहन से धरती पर आएंगी मां दुर्गा

109
sarvartha siddhi yoga shardiya navratri

इस वर्ष 17 अक्टूबर से शारदीय नवरात्रि (shardiya navratri 2020) की शुरुआत हो रही है. नवरात्र मां दुर्गा की उपासना का विशेष त्योहार है. नवरात्र के नौ दिनों तक मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों की आराधना की जाती है. इस साल मनाया जाने वाला मां दुर्गा का नवरात्रि पर्व विशेष है. भले ही इस बार नवरात्रि 25 दिन के देरी से शुरू हो रही है लेकिन देशभर में इस त्योहार का हर्षोल्लास देखने को मिल रहा है. तो आइए जानते हैं कि इस बार शारदीय नवरात्रि में कौन-से तीन सर्वार्थसिद्धि योग बन रहे हैं. क्योंकि इसमें खरीदारी करना भी बेहद शुभ है.

शारदीय नवरात्रि में तीन सर्वार्थसिद्धि योग
नवरात्रि पर बन रहे तीन सर्वार्थसिद्धि योग 18 अक्टूबर, 19 अक्टूबर और 23 अक्टूबर को हैं. 18 अक्टूबर को त्रिपुष्कर योग भी बन रहा है. इस नवरात्रि के दौरान गुरु व शनि स्वगृही रहेंगे, जो बेहद शुभ फलदायी है. नवरात्र में दुर्गा सप्तशती का पाठ करने के साथ दुर्गा चालीसा का भी पाठ जरूर करें. इसके अलावा प्रॉपर्टी, वाहन और अन्य चीजों की खरीदारी के लिए नवरात्र का हर दिन बेहद शुभ होगा.

इस बार किस वाहन से आएंगी मां दुर्गा
मां दुर्गा हर बार अलग वाहन से धरती पर भ्रमण करने आती हैं. इस बार मां दुर्गा धरती पर घोड़े पर सवार होकर आएंगी. मान्यता है कि मां दुर्गा के वाहन से ही भविष्य में होने वाली घटनाओं का संकेत मिलता है और शास्त्रों की मानें तो मां का घोड़े पर आगमन पड़ोसी देशों के साथ कटु संबंध, राजनीतिक उथल-पुथल, रोग व शोक देता है. इसके अलावा मां दुर्गा धरती से विदा भैंस पर हो रही हैं जो शुभ संकेत नहीं है. इसलिए मां की पूजा-अर्चना करते हुए भूल से भी मन में किसी प्रकार का भेदभाव या किसी के प्रति गलत विचार मन में ना लाएं और पूरी श्रद्धा के साथ मां की सेवा करें.

नवरात्र तिथि और मां का पूजन
17 अक्टूबर – प्रतिपदा – घट स्थापना और शैलपुत्री पूजन
18 अक्टूबर – द्वितीया – मां ब्रह्मचारिणी पूजन
19 अक्टूबर – तृतीया – मां चंद्रघंटा पूजन
20 अक्टूबर – चतुर्थी – मां कुष्मांडा पूजन
21 अक्टूबर – पंचमी – मां स्कन्दमाता पूजन
22 अक्टूबर – षष्ठी – मां कात्यायनी पूजन
23 अक्टूबर – सप्तमी – मां कालरात्रि पूजन
24 अक्टूबर – अष्टमी – मां महागौरी पूजन
25 अक्टूबर – नवमी, दशमी – मां सिद्धिदात्री पूजन व विजया दशमी

ये भी पढ़ेंः- 58 साल बाद नवरात्रि पर अद्भुत संयोग, जानें घटस्थापना और पूजा का शुभ मुहूर्त