Raksha Bandhan 2021

रक्षाबंधन (Raksha Bandhan 2021) का पर्व आने में अब कुछ ही दिन शेष बचे हुए हैं. रक्षाबंधन के दिन सभी बहनें अपने भाईयों की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधती हैं. कहा जाता है कि इस दिन बहनों को भाईयों को राखी बांधने से पहले अपने अपने इष्टदेवों को राखी बांध देनी चाहिए. कहा जाता है कि ऐसा करने पूरे साल भगवान जी आपके मान-सम्मान की रक्षा करते हैं. आइये आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि किस भगवान को कौन सा रक्षा सूत्र बांधना उचित होता है.

इन राखी से सजाए गणपति जी की कलाई

Sri Ganesh Chaturthi Pooja Mantras – Powerful Mantras for Success & Removal  of all Obstacles - - YouTube

सनातन धर्म में बताया जाता है कि भगवान गणेश को सबसे पहले स्थान दिया जाता है और सबसे पहले उनकी पूजा का जाती है. ऐसा भी माना जाता है कि ऐसा करने से व्यक्ति के जीवन की सारी समस्याएं गणपति जी हर लेते हैं और उनके घर में सदैव खुशहाली बनी रहती है. इसीलिए रक्षा बंधन वाले दिन (Raksha Bandhan 2021) सबसे पहले बहनों को गणपति बप्पा को राखी बांधनी चाहिए. हमेशा इस बात का ध्यान रखें कि गणपति जी को लाल रंग की ही राखी बांधनी चाहिए.

भगवान विष्णु को पसंद आता है पीला रंग

पीला रंग भगवान विष्णु को अत्यंत प्रिय है. रक्षाबंधन के दिन भगवान विष्णु को हल्दी का तिलक लगाने के बाद पीले रंग की राखी बांधनी चाहिए. इससे भगवान बहुत प्रसन्न होते हैं और अपने भक्तों को मनचाहा वरदान देते हैं. उनको मिठाई का भोग लगाना चाहिए.

भोलेनाथ को प्रिय है नीले रंग की राखी

राखी का पर्व (Raksha Bandhan 2021) सावन के महीने की पूर्णमासी को मनाया जाता है. यह सावन का अंतिम दिन होता है. सावन को भगवान भोले की आराधना का महीना भी कहा जाता है. इसलिए इस दिन भोलेनाथ को नीले रंग का रक्षा सूत्र जरूर बांधनी चाहिए. ऐसी मान्यता है कि ये करने से जीवन की सारी समस्याएं दूर हो जाती हैं और परिवार में सुख-संपन्नता का वास होता है.

कृष्ण कन्हैया को बांधे राखी

सनातन धर्म के हिसाब से जब श्रीकृष्ण की उंगली से खून बहने लगा था, तो द्रोपदी ने अपनी साड़ी का पल्लू फाड़कर उनकी उंगली और कलाई पर बांध दिया था. भारतीय संस्कृति में इस दिन से भी रक्षाबंधन (Raksha Bandhan 2021) की शुरुआत मानी जाती है. महाभारत कथा के हिसाब से चीरहरण के समय भगवान कृष्ण ने द्रोपदी के मान-सम्मान की रक्षा करने के लिए उनके चीर के बढ़ा दिया था. ऐसा माना जाता है कि श्रीकृष्ण को हरे रंग की राखी बांधने से वह जीवन के सभो दुखों को दूर कर देते हैं.

पवनसुत हनुमान को लाल रंग बांधे

भारतीय संस्कृति में भगवान हनुमान को संकटमोचक कहा जाता है. जब-जब भगवान राम संकट में पड़ते हैं, तो पवन पुत्र हनुमान जी ने आगे बढ़ाकर उनकी सारी दिक्कतों को हर लेते हैं. इसीलिए रक्षाबंधन (Raksha Bandhan 2021) वाले दिन हनुमान जी को लाल रंग का धागा जरूर बांधें. ऐसा करने से मंगल दोष दूर हो जाते हैं और इंसान को बल-बुद्धि की प्राप्ति भी होती है.

(नोट: इस लेख में दी गई सूचनाएं सामान्य जानकारी और मान्यताओं पर आधारित हैं. UpvartaNews इनकी पुष्टि नहीं करता है.)