Rahu Transit 2020: इसी महीने बदलेगी राहु की चाल, प्रकोप से बचने के लिए अपनाएं ये आसान उपाय

133
rahu-transit-2020

Rahu Transit 2020: जिस तरह शनि ग्रह का राशि परिवर्तन अन्य राशियों पर गहरा प्रभाव डालता है. उसी तरह छाया ग्रह राहु का राशि परिवर्तन भी जातकों के लिए विशेष होता है. राहु 23 सितंबर मिथुन राशि से निकलकर वृषभ राशि में प्रवेश करेगा. राहु शनि के बाद ऐसा दूसरा ग्रह है जो एक राशि से दूसरी राशि में जाने के लिए लंबा समय लेते हैं. राहु को 18 महीनों का समय लगता है और अन्य ग्रहों की विपरीत हमेशा उल्टी चाल में चलते हैं. ज्योतिष की मानें तो राहु का राशि परिवर्तन अन्य राशियों के लिए शुभ और अशुभ होता है.

23 सितंबर को बदलेगी राहु की चाल
राहु एक ऐसे ग्रह हैं जो किसी भी जातक को अचानक से फल देते हैं. ज्योतिष शास्त्र में मत है कि राहु ग्रह लोगों की बुद्धि भ्रमित करता है. कई बार लोगों का दिमाग सही से काम सिर्फ राहु की वजह से नहीं करता. पर कहा जाता है कि, जिस जातक की कुंडली में राहु शुभ भाव में होता है उसकी सारी परेशानियां खत्म हो जाती हैं और खुशियां ही खुशियां होती हैं. मान्यता है कि, राहु के शुभ होने से व्यक्ति को राजपाठ मिलता है. तो चलिए जानते हैं कि राहु के प्रकोप से बचने के लिए कौन-से उपायों को अपनाना चाहिए.

राहु के प्रकोप से बचने के उपाय
राहु-केतु के प्रकोप से बचने के लिए सबसे अच्छा उपाय भैरव उपासना माना जाता है. भगवान भैरव को प्रसन्न करने के लिए उड़द की दाल या इसी से निर्मित मिष्ठान का भोग लगाएं. भगवान को सबसे ज्यादा चमेली का पुष्प प्रिय है इसलिए उन्हें इसी पुष्प को अर्पित करें.

राहु से संबंधित व्यक्ति यानि कुष्ठ रोगी, निर्धन व्यक्ति, सफाई कर्मचारी आदि लोगों की अगर मदद या भोजन कराया जाए तो इससे भी राहु प्रसन्न होते हैं. राहु के प्रकोप को कम करने के लिए जरूरतमंद व्यक्तियों की मदद करनी चाहिए. उन्हें कपड़े, नारियल, उड़द दाल आदि का दान करने से केतु ग्रह की शांति होती है.

घर के भीतर भी कुछ विशेष स्थानों पर राहु का वास माना गया है. अगर आपकी घर की दीवारों में दरार, प्लास्टर गिरे, दीवार टूटे, सीलन आए तो उसे फौरन ठीक कराना चाहिए. इसके अलावा घर की साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखना चाहिए. बाथरूम से लेकर मेन गेट और छत साफ होनी चाहिए.

ये भी पढ़ेंः- Shani Transit 2020: सितंबर में शनि बदलेंगे चाल, पांच राशियों की पलट जाएगी किस्मत