वट सावित्री व्रत के दिन लगेगा सूर्य ग्रहण, जानें महिलाएं कब और कैसे कर सकेंगी पूजा

0
483
Savitri Vrat 2021

वट सावित्री व्रत (Vat Savitri Vrat) प्रत्येक वर्ष ज्येष्ठ माह की अमावस्या के दिन रखा जाता है। इस दिन महिलाएं अपने पति की लम्बी आयु और संतान के उज्जवल भविष्य के लिए व्रत रखती हैं। इस वर्ष वट सावित्री का व्रत (Surya Grahan Ke Din Kaise Kare Vat Savitri Vrat Ki Puja) 10 जून 2021 को पड़ रहा है। साथ ही इसी दिन साल 2021 का पहला सूर्य ग्रहण भी लगने वाला है। इस दिन शनि जयंती (Shani Jayanti 2021) भी मनाई जाएगी।

सूर्य ग्रहण और वट सावित्री व्रत दोनों एक ही दिन पड़ रहे हैं। हिंदू धर्म के अनुसार सूर्य ग्रहण के दौरान कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है। ऐसे में महिलाओं के मन में सवाल है कि क्या ग्रहण के दौरान पूजा की जा सकती है या नहीं। आइए हम आपको इसके बारे में विस्तार से बताते हैं-

बता दें कि 10 जून को लगने वाला सूर्य ग्रहण अमेरिका, यूरोप और एशिया में आंशिक तौर पर नजर आएगा जबकि ग्रीनलैंड, उत्तरी कनाडा और रूस में पूर्ण सूर्य ग्रहण का नजारा लोग देख सकेंगे। इस बार का सूर्य ग्रहण भारत के सिर्फ अरुणाचल प्रदेश में आंशिक तौर पर नजर आएगा इसलिए, हिंदू पंचांग के मुताबिक, विवाहित स्त्रियां वट सावित्री व्रत की पूजा विधि -विधान के साथ कर सकेंगी। यही कारण है उनके पूजा करने में किसी प्रकार का दोष नहीं मान्य होगा।

वट सावित्री व्रत उत्तर भारत के लोकप्रिय त्योहारों में से एक माना जाता है। ये त्योहार उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, बिहार, पंजाब और हरियाणा जैसे राज्यों में मनाया जाता है। हिंदू धर्म में वट सावित्री व्रत महिलाओं के लिए काफी महत्व रखता है। इस दिन स्त्रियां अपने पति की लम्बी उम्र के लिए और सुखद वैवाहिक जीवन के लिए व्रत रखती हैं। इस दिन महिलाएं बरगद के पेड़ की परिक्रमा करती हैं और उस पर सुरक्षा का धागा बांधकर पति की दीर्घायु की प्रार्थना करती हैं।

इसे भी पढ़ें:- जल्द लगने वाला है साल का पहला Surya Grahan, इन राशियों के लिए होगा अशुभ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here