भक्तों की रक्षा के लिए कलियुग में भगवान विष्णु लेंगे अवतार, इस तरह होगी हरि का जन्म

भगवान विष्‍णु ने भी अपने भक्‍तों की रक्षा के लिए बहुत सारे अवतार लिए हैं. शास्‍त्रों के हिसाब से कलियुग में भी भगवान विष्‍णु अवतार लेने वाले हैं. आइए जानते हैं कब...

0
544

हिंदू धर्म-शास्‍त्रों में भगवानों के अवतार लेने की बहुत सारी बातें बताई गयी हैं. इनके अनुसार जब-जब धरती पर पाप बढ़ता हैं, तो उनको खत्म करने और अपने भक्तों को विपदाओं से बचाने के लिए भगवान स्वयं अवतार लेते है. कभी ये अवतार भगवान ने मानव के रूप में जन्‍म लिया हैं तो कभी बाकी के अन्य रूपों में. भगवान विष्‍णु ने भी अपने भक्‍तों की रक्षा के लिए बहुत सारे अवतार लिए हैं. शास्‍त्रों के हिसाब से कलियुग में भी भगवान विष्‍णु अवतार लेने वाले हैं. आइए जानते हैं कब…

इस रुप में होगा अवतार

ऋग्‍वेद के बताए अनुसार कालचक्र 4 युगों में चलता है. सतयुग, त्रेतायुग, द्वापरयुग और कलियुग. इस समय जो युग चल रहा है वो कलियुग चल रहा है. इसी कलियुग में श्री हरी विष्‍णु कल्कि अवतार लेने वाले हैं. पौराणिक कथाओं के हिसाब से जब-जब पृथ्वी पर पाप और पापियों का अत्याचार बढ़ेगा तब-तब पृथ्वी पर भगवान श्री हरी विष्णु अवतार लेंगे और पृथ्वी को अत्याचारियों के आतंक से आजाद करवाएंगे. हर युग में भगवान विष्णु ने अलग अलग अवतार को लेकर लोगों को ज्ञान और मर्यादा का पाठ पढ़ाया है. धार्मिक पुराणों में भगवान विष्णु के सतयुग से लेकर कलयुग तक में कुल 24 अवतारों के बारे में बताया गया है. इनमें से 23 अवतार तो अब तक हो चुके हैं और आखिरी एक कल्कि अवतार कलियुग में होना अभी बाकी है.

कल्कि अवतार का समय

पुराणों में 24 वें अवतार के बारे में उल्लेख किया गया है कि भगवान विष्‍णु का यह अवतार भगवान कलयुग और सतयुग के संधि काल में होने वाला है. मतलब कि जिस समय कलियुग खत्‍म हो रहा होगा और सतयुग की शुरुआत होने वाली होगी. पुराणों के अनुसार भगवान विष्णु का इस तरह का अवतार सावन महीने के शुक्लपक्ष की पंचमी तिथि को होगा. इसी वजह से हर साल इस तिथि पर कल्कि जयंती भी मनाई जाती है. भगवान कल्कि का जन्‍म जब होगा तब गुरु, सूर्य और चंद्रमा एक साथ पुष्‍य नक्षत्र में होंगे और भगवान के जन्‍म के समय ही सतयुग की शुरुआत हो जाएगी. ज्ञात हो कि भगवान कृष्‍ण के बैकुंठ वापस जाने के बाद कलियुग शुरू हो गया था.

इस तरह का होगा रूप

श्रीमद्भागवत के हिसाब से 64 कलाओं से परिपूर्ण होगा भगवान विष्णु का कल्कि अवतार. सफेद घोड़े पर सवार होंगे भगवान कल्कि और पापियों का नाश करके पृथ्वी पर धर्म की पुर्स्थापना करेंगे

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. upvartanews इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

इसे भी पढ़ें-पहलवानी के अखाड़े के बाद सियासत के मैदान में द ग्रेट खली ने रखा कदम, BJP में हुए शामिल