Hanuman ji

हिन्दू धर्म में हर दिन किसी न किसी देवी देवता को सम्पर्पित होता है। वैसे ही मंगलवार हनुमान जी (Hanuman Ji) को समर्पित होता है। हनुमान जी कलयुग में भी पृथ्वी पर विराजमान हैं। हनुमान जी की पूजा और आराधना करने से मनुष्य भय से मिक्ति पा लेता है। अधिकतर लोग हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) का पाठ करते हैं। हनुमान चालीसा से लोगों को लाभ तो होता ही है साथ ही यदि बजरंग बाण (Bajrang Baan) का पाठ किया जाए तो इससे भक्तों की सभी इच्छा पूरी हो जाती है। मंगलवार के दिन हनुमान जी की पूजा करने से विशेष पुण्य मिलता है। मंगलवार की पूजा से हनुमान जी प्रसन्न होते हैं और अपने भक्तों की इच्छाएं पूरी करते हैं। हनुमान जी को संकट मोचक भी कहा जाता है। भगवान श्रीराम के परम भक्त हनुमान जी है।

भगवान् हनुमान जी की पूजा विधि

मंगलवार और शनिवार के दिन हनुमान जी की पूजा करना विशेष फलदायी माना जाता है। हनुमान जी की पूजा विधि पूर्वक करने से पूजा का पूर्ण लाभ प्राप्त होता है। मंगलवार के दिन व्रत रखने से भी हनुमान जी का आर्शीवाद मिलता है। सुबह स्नान करने के बाद हनुमान जी की पूजा शुरू करनी चाहिए। हनुमान जी की पूजा करते समय स्वच्छता और नियमों का विशेष ध्यान रखना चाहिए। साथ ही इन बातों का भी ख्याल रखना चाहिए-

-ध्यान रहे हनुमान चालीसा का पाठ हनुमान जी की मूर्ति या फोटो के सामने ही करना चाहिए।
-एक पात्र में गंगाजल की कुछ बूंदे जल में मिलाकर रखनी चाहिए।
-इसके बाद पूजा पूर्ण के बाद इस जल को प्रसाद के रूप में ग्रहण करना चाहिए।
-पूजा शुरू करने से पहले हनुमान जी के सम्मुख चमेली के तेल का दीपक जरूर जलाएं।
-मंगलवार को हनुमान जी चौला चढ़ाने से ज्यादा प्रसन्न होते हैं।
-चौला चढ़ाने के साथ हनुमान जी को लड्डू, गुड़ और चने का भी भोग लगाएं।
-पूजा के बाद इसे प्रसाद के रूप में ग्रहण करें और सभी में वितरित कर दें।

इस मंत्र का करें जाप
ॐ श्री हनुमंते नम:

न करें ये काम

हनुमान जी की पूजा में नियमों को विशेष ध्यान रखा जाता है। मंगलवार के दिन गंदगी से दूर रहना चाहिए। इस दिन स्वच्छता का विशेष ध्यान रखना चाहिए। कभी भी मन में गलत विचारों का न आने दें। क्रोध और लोभ से दूर रहें। किसी का अपमान और अनादर भी इस दिन नहीं करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें:- फेसबुक लाइव कर उठाया आत्मघाती कदम, सुप्रीम कोर्ट के सामने इन आरोपों के साथ लगाई आग