Palmistry

हथेली की रेखाएं किसी भी मनुष्य का भविष्य बता देती है। इसीलिए हस्‍तरेखा शास्‍त्र (Palmistry) विभिन्‍न रेखाओं, आकृतियों, तिल (Mole)और निशान (Mark) के जरिए जिंदगी के विभिन्‍न पहलुओं के बारे में शुभ-अशुभ के बारे बता देता है। इसी तरह एक निशान होता है तारे (Star) का। हस्‍तरेखा शास्‍त्र की दृष्टि से हथेली में तारा (Tara) होना बेहद खास होता है। यह कई मायनों में बेहद शुभ संकेत देता है। आज हम आपको बताते हैं हथेली में किस जगह तारे का चिह्न होने से क्‍या लाभ मिलता है।

हथेली में तारा होना होता है बेहद शुभ

हथेली में तारे का होना तो बहुत ही शुभ माना जाता ही है मगर अगर वह किसी रेखा के अंतिम सिरे पर हो तो उसका प्रभाव कई गुना और अधिक बढ़ जाता है। इसी प्रकार हथेली के जिस पर्वत पर तारा होता है, उस पर्वत की शक्ति कई गुना बढ़ अधिक जाती है। ऐसे में उस रेखा और पर्वत से जुड़े फल और भी कई बेहतर तरीके से मिलते हैं।

– अगर किसी व्यक्ति के बृहस्पतति पर्वत पर तारे का निशान हो तो व्यक्ति को शक्तिशाली और प्रतिष्ठित बनाता है। साथ ही साथ उसे बहुत मान-सम्मान भी मिलता है।

– अगर सूर्य पर्वत पर तारा हो तो यह पैसा और पद दोनों मिलने की तरफ प्रबल इशारा करता है। हालांकि ऐसे लोगों को मानसिक खुशी और शांति बहुत कम ही मिलती है।

– चंद्र पर्वत पर तारे का होना प्रसद्धि और यश दिलाता है। ख़ास कर पर ऐसे जातक बहुत ही फेमस कलाकार बनते हैं।

– मंगल पर्वत पर तारा होने से सौभाग्‍य मिलता है। ऐसा माना जाता है कि इन लोगों को अवसरों की कमी नहीं होती। ये व्यक्ति विज्ञान के क्षेत्र में अप्रत्याशित सफलता पाते हैं।

– अगर शुक्र पर्वत पर तारे का निशान हो तो यह दर्शाता है कि आपको प्‍यार होगा और आपका प्यार आपको मिलेगा भी।

– शनि पर्वत पर तारे का निशान होने का मतलब है कि जातक को जिंदगी में खूब सफलता मिलती है। हालांकि इसके लिए उन्‍हें कई चुनौतियों का सामना भी करना पड़ सकता है।

इसे भी पढ़ें:- पानी में डूब रही महिला को रेस्क्यू टीम ने निकाला बाहर, बॉडी देख उड़ गए लोगों के होश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here