श्राद्ध में कैसे मिलेगा पितरों का आशिर्वाद, राशि अनुसार जरूर करें ये काम

131
RASHI

हिंदू धर्म में पितृ पक्ष को काफी महत्व दिया गया है। इस साल के पितृ पक्ष की शुरुआत 2 सितंबर से हो गई है और 17 सितंबर को समाप्त हो जाएंगे। ये दिन दान-पुण्य के लिए माने जाते है। कहा जाता है कि इन दिनों में पितरों के तर्पण के लिए दान-पुण्य जैसे कार्य करने चहिए। जिससे पितरों का आशिर्वाद जातकों पर हमेशा बना रहते है। ज्योतिष विज्ञान के अनुसार अगर श्राद्ध पक्ष में व्यक्ति पितरों के नाम पर अपनी राशि के अनुसार दान-पुण्य का कार्य करता है या फिर उन्य उपाय करता है तो उसका लाभ मिलता है लेकिन सवाल ये उठता है कि कौन-सी राशि को क्या उपाय करने है। वो हम आपको बताते है।

मेष
मेष राशि के जातक अगर पितरों की शांति चाहते है और उनका आशिर्वाद लेना चाहते है तो उन्हें श्राद्ध में रांगे की धातु से बना सिक्का बहते हुए जल में प्रवाहित करना चाहिए। इसके अलावा अगर जातक श्राद्ध (प्रतिपदा श्राद्ध) में अपने पितरों के निमित्त गरीबों को भोजन करवाना चाहिए।

वृषभ
वृषभ राशि के जातकों के लिए बटुकभैरव मंदिर में जाना काफी लाभकारी होगा। पितृ पक्ष में किसी भी दिन जातक बटुकभैरव मंदिर पर दही-गुड़ का भोग लगाना चाहिए। इसके अलावा इन दिनों पितरों के नाम से 21 कन्याओं को भोजन कराना चाहिए और उन्हें सफेद वस्त्र भेंट करने चाहिए।

मिथुन
मिथुन राशि के लिए पितृ पक्ष दान काफी पुण्य का काम होता है। इन दिनों में अगर श्राद्क को पितरों के नाम पर पक्षियों को बाजरा खिलाना चाहिए। इसके साथ ही पानी भी व्यवस्था भी करनी चाहिए। अगर आप ये रोज नहीं कर सकते। तो किसी एक दिन जरूर करिये। इसके अलावा किसी सार्वजनिक स्थान पर प्याउ लगवाएं।

कर्क
कर्क राशि के जातकों को बादाम बहते पानी में प्रवाहित करना चाहिए। ये काम आप श्राद्ध में किसी एक दिन कर सकते है। इस दौरान आपको सिर्फ एक मुट्ठीभर साबूत बादाम पानी में प्रवाहित करना होगा। इसके अलावा शिव मंदिर में शिवलिंग का दूध से अभिषेक करना चाहिए और गरीबों में चावल की खीर को भी बंटवाना चाहिए।

सिंह
इस राशि के जातकों को अनाज के दान के साथ वस्त्रों का दान भी करना चाहिए। आपको किसी निर्धन को अनाज का दान करना चाहिए। इतना ही नहीं, इसके साथ पीले रंग के वस्त्र भी भेंट करने चाहिए। अगर आप ऐसा करेंगे। तो आपको पितरों का आशीर्वाद प्राप्त होगा।

कन्या
कन्या राशि के जातकों को श्राद्ध में सुंदरकांड का पाठ करना चाहिए। इस राशि के जातक अगर रोज घर में सुंदरकांड का पाठ करेंगे तो आपको पितरों का आशिर्वाद प्राप्त होगा। इसके साथ ही सर्वपितृ अमावस्या के दिन गरीब और अनाथ लोगों में भोजन व वस्त्र दान करने चाहिए।

तुला
तुला राशि के जातक अगर पितृ दोष से मुक्ति पाना चाहते है तो वह दान करके पा सकते है। अगर आप श्राद्ध में  दूध-चावल से बनी खीर और नमकीन चावल का गरीबों मे दान करेंगे। तो आपको पितृ दोष से मुक्ति मिलेगी। इसके अलावा पितृ पक्ष में सात कन्याओं को चप्पल दान करना चाहिए।

वृश्चिक
वृश्चिक राशि के जातकों को गर्म वस्त्र का दान करना चाहिए। आपकों 5 गरीबों को दो रंग का कंबल या गर्म वस्त्रों का दान करना चाहिए। इसके अलावा भोजन भी करवाना चाहिए। वहीं, अगर आप पैसों से किसी की मदद कर सकते है तो वो भी काम आपको करना चाहिए।

धनु
आपको पशु-पक्षियों को दाना-पानी देना चाहिए। अगर आप गाय को चारा खिलाएंगे और पितरों के नाम से गरीबों में भोजन बांटगे। तो आपको पितरों का आशिर्वाद मिलेगा।

मकर
मकर राशि के जातकों को श्राद्ध के दिनों में गंगाजल के पानी से नहाना चाहिए। ये काम आप किसी एक दिन भी कर सकते है। इसके अलावा शनि मंदिर में जाकर दृष्टिहीन और दिव्यांग बच्चों या बड़ों को भोजन जरूर करवाएं।

कुंभ
आप श्राद्ध में गरीब लोगों को खाना खिलाना चाहिए। इसके अलावा किसी एक दिन अपने पितरों के निमित्त 11 श्रीफल लेना चाहिए और पितरों का नाम लेते हुए एक-एक श्रीफल बहते जल में प्रवाहित करना चाहिए। ऐसा करने से आपको पितृ काफी खुश होंगे।

मीन
आपको श्राद्ध में किसी भी दिन गरीबों को दूध या मावे से बनी खाने की वस्तुएं भेंट करनी चाहिए। गाय जिसका हाल ही में बच्चा हुआ हो उसे हरा चारा खिलाएं। गौ दान भी सर्वोत्तम उपाय है।