Wednesday, December 8, 2021

Govardhan Puja 2021: आज है गोवर्धन पूजा, जानिए क्या है कथा, पूजा विधि व मंत्र

Must read

- Advertisement -

दिवाली के अगले दिन यानि आज गोवर्धन पूजा की जाएगी। आज के दिन गोवर्धन पर्वत, गोधन यानि गाय और भगवान श्री कृष्ण की पूजा का काफी महत्व है। साथ ही वरुण देव, इंद्र देव और अग्नि देव आदि देवताओं की पूजा की भी पूजा आज के दिन की जाती है। इस पूजा में कई तरह के अन्न को समर्पित और वितरित किये जाते हैं, इसी कारण इस पर्व का नाम अन्नकूट पड़ा है। इस दिन कई तरह के पकवान, मिठाई से भगवान को भोग लगाया जाता है।

इसलिए की जाती है गोवर्धन पूजा

- Advertisement -

अन्नकूट पूजा भगवान कृष्ण के अवतार के बाद द्वापर युग से शुरू हुई है। इसमें हर घर के आंगन में गाय के गोबर से गोवर्धन नाथ जी की अल्पना बनाकर उनका पूजन किया जाता है। उसके बाद गिरिराज भगवान (पर्वत) को खुश करने के लिए उन्हें अन्नकूट का भोग लगाया जाता है। इस दिन मंदिरों में अन्नकूट भी किया जाता है।

जानें क्या है ​कथा

गोवर्धन पूजा करने की मान्यता है कि भगवान श्रीकृष्ण इंद्र का अभिमान चूर करना चाहते थे। इसी कारण उन्होंने गोवर्धन पर्वत को अपनी छोटी अंगुली पर उठाकर गोकुल वासियों की इंद्र से रक्षा की थी। मान्यता है कि इसके बाद भगवान कृष्ण ने खुद कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा के दिन 56 भोग बनाकर गोवर्धन पर्वत की पूजा करने का आदेश दिया था। उसी समय से गोवर्धन पूजा की प्रथा आज भी चली आ रही है और हर वर्ष गोवर्धन पूजा और अन्नकूट का त्योहार मनाया जाता है।

इस दिन भगवान कृष्ण और मां लक्ष्मी की करें पूजा

इस दिन अन्नकूट बनाकर गोवर्धन पर्वत और भगवान श्रीकृष्ण की पूजा की जाती है। इस दिन धन दौलत, गाड़ी, अच्छे मकान के लिए कृष्ण और मां लक्ष्मी को प्रसन्न किया जाता है, जिससे नौकरी या व्यापार में खूब तरक्की प्राप्त की जा सके।

इस दिन नैवेद्य अर्पित कर इस मंत्र से करें प्रार्थना

लक्ष्मीर्या लोक पालानाम् धेनुरूपेण संस्थिता।
घृतं वहति यज्ञार्थे मम पापं व्यपोहतु।।
सायंकाल पश्चात् पूजित गायों से पूजित गोवर्धन पर्वत का मर्दन कराएं उसके बाद उस गोबर से घर-आंगन को लीपें।

इसे भी पढ़ें:-हस्तरेखा विज्ञान : अगर आपकी हथेली में भी है यह रेखा तो अवश्य जाएंगे विदेश

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article