Shani Remedies: आज से शनिदेव मकर राशि में करेंगे वक्री, शनिदेव के प्रकोप से बचने के लिए करें ये उपाय

आप लोग शनिदेव के प्रकोप से बचना चाहते हैं तो आपको इन उपायों को करना होगा। तभी आपको शनिदेव के प्रकोप से छुटकारा मिल सकता है आइए जानते हैं उन उपायों के बारे में...

0
248
Shani Gochar 2022 Upay

Shani Gochar 2022 Upay: शनि देव एक ऐसे देवता है जो किसी भी राशि में अगर गोचर करते हैं तो वह काफी समय तक करते हैं शनिदेव आज से मकर राशि में वक्री होने जा रहे हैं। शनिदेव की वक्री चाल मकर राशि में प्रवेश करने जा रही है। शनि देव अभी तक कुंभ राशि में वक्री थे अब मकर राशि में प्रवेश कर चुके हैं। जिससे कुछ राशियों पर तो अच्छा प्रभाव पड़ने वाला है, लेकिन कुछ राशि के जातकों पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ेगा। अगर आप लोग शनिदेव के प्रकोप से बचना चाहते हैं तो आपको इन उपायों को करना होगा। तभी आपको शनिदेव के प्रकोप से छुटकारा मिल सकता है आइए जानते हैं उन उपायों के बारे में…

शनिदेव के प्रभावों से बचने के लिए करें ये उपाय

shani transist
1.अगर आप लोग शनि देव के प्रभावों को कम करना चाहते हैं तो आप लोग नियमित रूप से पीपल के पेड़ के पास संलग्न स्तोत्र का पाठ करें। वही भगवान शिव की भी पूजा करें। पीपल के पेड़ पर कच्ची लस्सी में काले तिल डालकर चढ़ा दें घर में सुख शांति समृद्धि की प्रार्थना भी करें। प्रभाव कम हो जाएगा।

2. शनिदेव के प्रभावों को कम करने के लिए शनिवार के दिन श्रवण नक्षत्र में काले धागे में शमी का अभियंत्रण धारण करें। पर शनिदेव का प्रभाव कम हो जाएगा। वही साथ में काली मशहूर काले तिल छाता काले जूते आदि चीजों का दान भी करें।

3. अगर आप लोग शनि के अशुभ प्रभाव से बचना चाहते हैं तो हर शनिवार को तीन माला “ओम प्रां प्रीं प्रों सः शनैश्चराय नमः”का जाप करें। इससे शनिदेव काफी परेशान होते हैं और आप पर अपनी दया बनाए रखते हैं। शनि के प्रकोप से छुटकारा भी मिल जाता है।

4. अगर आप लोग शनि देव के प्रभावों को कम करना चाहते हैं उसके लिए आपको शनिवार के दिन लोहे की कटोरी में सरसों का तेल और अपना चेहरा देख ले। इसके बाद इसे आप लोग किसी मंदिर में दान दे दे। शनिवार के दिन शनि स्त्रोत का पाठ भी करे ।पक्षियों को दाना डालें।

5. शनिदेव का प्रकोप दूर करने के लिए अमावस्या के दिन सुबह-सुबह सूर्यास्त के समय विधि विधान से पूजन करें और शनि चालीसा का पाठ भी करें मंत्र का जाप भी करें शनिदेव की पूजा के साथ सुंदरकांड का पाठ भी और हनुमान जी के मंदिर में भी जाएं शनिदेव का प्रकोप कम हो जाएगा। शनिदेव अपनी दया बनाए रखेंगे।

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है.upvartanews इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

Read More-शनिदेव मकर राशि में होने जा रहे हैं वक्री, धनु सहित इन राशि के जातकों की मिटेगी सारी चिंता, बरसेगा धन