शनि की कुदृष्टि से बचने के लिए अपनाएं ये उपाय, न्याय के देवता की बनी रहेगी कृपा

Shani Dev

ऐसा माना जाता है कि शनि ग्रह व्यक्ति के जीवन में नकारात्मक और सकारात्मक प्रभाव देते ही रहते हैं। ज्योतिष शास्त्र में कहा गया है कि व्यक्ति जिस प्रकार के कर्म करता है, उसी प्रकार शनिदेव उसे फल भी प्रदान करते हैं। अच्छे कर्म करने वालों को अच्छे फल और बुरे कर्म करने वालों को बुरे फल देना न्याय के देवता शनिदेव का प्रमुख कार्य है। शनिदेव की कृपा बनी रहे इसके लिए शनि ग्रह के उपाय किए जाते हैं। कहा जाता है कि शनि ग्रह को खुश करने के उपायों के जरिए शनिदेव कृपा प्राप्त की जा सकती है। जो लोग शनि ग्रह के दुष्प्रभावों से परेशान हैं, उन्हें शनि ग्रह के उपाय करने चाहिए। ऐसा माना जाता है कि शनिदेव के उपाय बेहद प्रभावशाली होते हैं। आज हम आपको बताते हैं कि किन उपायों को अपनाकर आप शनि देव को प्रसन्न कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें:- Vastu Tips: पढ़ाई में न लगे मन तो इन बातों का रखें ध्यान, पढ़ा हुआ रहेगा सब कुछ याद

शनि ग्रह के उपाय

  • शनिदेव की आराधना सूर्यास्त के बाद करना ज्यादा फलदायी माना जाती है। ज्योतिष शास्त्र के जानकार भी यही सलाह देते हैं कि शनिदेव की पूजा और शनि ग्रह के उपाय सूर्यास्त के समय ही करें।
  • शनिवार शाम को पीपल के पेड़ की जड़ में जल अर्पित करें। फिर शनिदेव का ध्यान करते हुए सरसों के तेल का दीपक जलाएं। इसके बाद शनिदेव के मंत्रों का भी जाप करें।
  • शनिवार के दिन एक कटोरी सरसों का तेल लें। इस तेल में अपनी छवि देखें। फिर इस तेल को किसी गरीब या जरुरतमंद को दान कर दें। आप चाहें तो शनिदेव के मंदिर में इस तेल से दीपक जलाकर रख कर आ सकते हैं।
  • शास्त्रों के अनुसार शनिवार के दिन ढलने के बाद कुष्ठ रोगियों को काले रंग का पेय पदार्थ पिलाएं और संभव हो तो उन्हें काले रंग के वस्त्र भी दान करें। सर्दियों में काले रंग के गर्म वस्त्र दान करना सबसे अच्छा माना जाता है।
  • शनिवार के दिन सात प्रकार का अनाज लें। फिर इसे अपने सिर से सात बार घुमाएं। उसके बाद चौराहे पर रहने वाले पक्षियों के लिए यह अनाज दान कर दें। यह रोजाना करें न संभव हो तो शनिवार के दिन यह उपाय जरूर करें।

इसे भी पढ़ें:- शुक्रवार, 19 फरवरी राशिफलः मां लक्ष्मी की कृपा से इन जातकों का शुभ होगा दिन, जानें अपने सितारे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *