Homeधर्म-ज्योतिषकुंडली में इन संयोग के कारण बनते हैं सरकारी नौकरी के योग

कुंडली में इन संयोग के कारण बनते हैं सरकारी नौकरी के योग

- Advertisement -

आज कल देश भर में हर तरफ सरकारी नौकरी पाने की होड़ मची हुई है। देश के लाखों युवा सरकारी नौकरी के लिए जी जीन से लगे हुए हैं। लेकिन इतनी मेहनत के बाद भी हर किसी को सरकारी नौकरी मिल जाए, ये संभव नहीं होता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार,  कुंडली में जितने भी ग्रह-नक्षत्र होते हैं, उनकी कुछ विशेष परिस्थितियां होती है, जिससे व्यक्ति के सरकारी नौकरी के योग का निर्माण करती हैं। इसको ठीक करने के लिए  ज्योतिष विज्ञान में कुछ कारगर और सरल उपाय भी बताए गए हैं। आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि किस तरह कुंडली सरकारी नौकरी के योग कैसे बनते हैं।

इसे भी पढ़ें- बीजेपी टीम बी के आरोपों पर ओवैसी ने तोड़ी चुप्पी, पीएम मोदी और ममता को बताया एक

1-अगर जातक की जन्म कुंडली में लग्न का स्वामी बलवान हो जाएं और दशम भाव में बैठे या फिर दशम भाव में सभी शुभ ग्रह हों और दशम भाव का स्वामी भी बलवान होकर अपनी या अपनी मित्र राशि में होकर केंद्र या त्रिकोण में हो तो व्यक्ति दीर्घायु हो जाता है और उसका भाग्य किसी राजा के भाग्य से कम नहीं होता है। ऐसे लोग प्रशासनिक सेवा में जाता है।

2-अगर जातक की जन्मकुंडली में लग्न व दशम भाव में सूर्य का प्रभुत्व हो जाता है, तो जातक राजनेता या राजपत्रित अधिकारी और मंगल का प्रभुत्व हो तो जातक के पुलिस या सेना के उच्च पद पर होने के कयास लगाए जाते है।

3-कुंडली में अगर गुरु का प्रभाव हो, तो यश एवं कीर्ति तथा शुभ कर्म करने वाले लोगों पर इसका प्रभाव देखने को मिलता है। ज्यादातर उचें पदों पर आसीन जातकों की कुंडली में बुध आदित्य योग अवश्य होता है।

4- कुंडली में जब दशम स्थान में सूर्य, मंगल या वृहस्पति की दृष्टि पड़ती है, तो सरकारी नौकरी के योग अधिक बनती है।

5- किसी का लग्न अगर वृश्चिक, मिथुन, मेष, सिंह, वृष या तुला होती है, तब सरकारी नौकरी के बहुत से योग बनते हैं।

क्या है सरकारी नौकरी पाने के उपाय

सरकारी नौकरी पाने का मुख्य कारक ग्रह सूर्य है। इसलिए सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए हर मुमकिन उपाय करना चाहिए। प्रतिदिन सुबह उठकर नियमित रूप से स्नान करें और उगते हुए सूर्य को जल चढ़ाएं। इससे सरकारी नौकरी के योग प्रबल होते हैं।

इसे भी पढ़ें- इस प्रदेश में लगाया गया पूर्ण लॉकडाउन, अस्पतालों में बढ़ी बेडों की संख्या

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here