Daan

वैसे तो हिन्दू धर्म में दान का विशेष महत्व है। क्या आप जानते हैं कि कुछ दान ऐसे भी होते हैं जो आपको फायदा देने के बजाय नुकसान पहुंचाते हैं। आज हम आपको बताएंगे किस व्यक्ति को कौन सा दान नहीं करना चाहिए-जो ग्रह जन्म कुंडली में उच्च राशि या अपनी स्वयं की राशि में स्थित हों, (स्वग्रही) उनसे संबंधित वस्तुओं का दान व्यक्ति को कभी भूलकर भी नहीं करना चाहिए।

जब सूर्य मेष राशि में होने पर उच्च और सिंह राशि में होने पर अपनी स्वराशि का माना जाता है इसलिए

*लाल या गुलाबी रंग के चीजों का दान न करें।

गुड़, आटा, गेहूं, तांबा आदि किसी को दान न दें।

दान देने से पहले आपको जानना जरूरी है ये विशेष काम की बातें...। DONATIONचंद्र वृष राशि में उच्च तथा कर्क राशि में स्वगृही होता है। अगर आपकी जन्म कुंडली भी ऐसी ही हो तो-

*दूध, चावल, चांदी, मोती एवं अन्य जलीय चीजों का दान न करें।

*माता और मातातुल्य किसी स्त्री का कभी भूल से भी दिल न दुखाएं वरना मानसिक तनाव, अनिद्रा एवं किसी मिथ्या आरोप का सामना करना पड़ेगा।

मंगल मेष या वृश्चिक राशि में हो तो स्वराशि का और मकर राशि में होने पर उच्चता को मिलता है। ऐसी स्थिति में-

*मसूर की दाल, मिष्ठान्न और अन्य किसी मीठे खाद्य पदार्थ का दान न करें।

*घर में आए किसी अतिथि को कभी सौंफ खाने को न दें वरना वह व्यक्ति कभी किसी मौके पर आपके खिलाफ ही कड़वे वचनों का इस्तेमाल करेगा।

Pitru Paksha 2020: श्राद्ध में ये 10 महादान करने से होगा लाभ, पितरों की  रहेगी कृपा - Pitru Paksha 2020 these 10 Mahadaan give benefit in shradh  tlifd - AajTakजब बुध मिथुन राशि में स्वगृही तथा कन्या राशि में होने पर उच्चता मिलती है। अगर आपकी जन्म पत्रिका में बुध उपरोक्त वर्णित किसी स्थिति में है तो-

*हरे रंग की चीज और वस्तुओं का दान न करें।

*साबुत मूंग, पेन-पेंसिल, पुस्तकें, मिट्टी का घड़ा, मशरूम आदि का दान न करें वरना हमेशा रोजगार और धन-संबंधी समस्याएं बनी रहेंगी।

*बृहस्पति जब धनु या मीन राशि में हो तो स्वगृही और कर्क राशि में होने पर उच्चता मिलती है, तब

*पीले रंग के पदार्थों का दान नहीं करना चाहिए।

*सोना, पीतल, केसर, धार्मिक साहित्य या वस्तुएं आदि का दान न करें वरना ‘घर का जोगी जोगड़ा, आन गांव का सिद्ध’ जैसी हालत होने लगेगी इसका मतलब मान-सम्मान में कमी रहेगी।

शुक्र जब जन्म पत्रिका में वृष या तुला राशि में हो, स्वराशि और मीन राशि में हो तो उच्च भाव का माना जाता है।

*व्यक्ति को श्वेत रंग के सुगंधित पदार्थों का दान न करें वरना व्यक्ति के भौतिक सुखों में न्यूनता आने लगती है।

* नवीन वस्त्र, फैशनेबल वस्तुएं, कॉस्मेटिक या अन्य सौंदर्यवर्धक सामग्री, सुगंधित द्रव्य, दही, मिश्री, मक्खन, शुद्ध घी, इलायची आदि का दान नहीं करना चाहिए वरना अकस्मात हानि का सामना करना पड़ता है।

अगर शनि मकर या कुंभ राशि में हो तो स्वगृही होता है और तुला राशि में होने पर उच्चता मिलती है, तब

* काले रंग के पदार्थों का दान नहीं करना चाहिए।

* लोहा, लकड़ी और फर्नीचर, तेल या तैलीय सामग्री, बिल्डिंग मटेरियल आदि का दान न करें।

* भैंस और काले रंग की गाय, काला कुत्ता आदि न घर में न पालें।

अगर राहु कन्या राशि में हो तो स्वराशि का और वृष (ब्राह्मण/ वैश्य लग्न में) और मिथुन (क्षत्रिय/ शूद्र लग्न) राशि में होने पर उच्चता मिलती है, तब-

* नीले, भूरे रंग के पदार्थों का दान न करें।

* मोरपंख, नीले वस्त्र, कोयला, जौ अथवा जौ से निर्मित पदार्थ आदि का दान किसी को न करें अन्यथा ऋण चढ़ने लगेगा।

* अन्न का कभी भूल से भी अनादर न करें और न ही भोजन करने के बाद थाली में जूठन छोड़ें।

Navgrah Daan : दान से होगा सभी समस्याओं का निदान, जानें कब और किस चीज का  करना चाहिए दान | Best remedies to please nine planets to get rid of  problems | TV9 Bharatvarshअगर केतु मीन राशि में हो तो स्वगृही तथा वृश्चिक (ब्राह्मण/ वैश्य लग्न में) एवं धनु (क्षत्रिय/ शूद्र लग्न में) राशि में होने पर उच्चता मिलती है। अगर आपकी जन्म पत्रिका में केतु उपरोक्त‍ स्‍थिति में है तो-

* घर में कभी पक्षी न पालें वरना धन व्यर्थ के कामों में बर्बाद हो जायेगा।

* भूरे, चित्र-विचित्र रंग के वस्त्र, कम्बल, तिल या तिल से निर्मित पदार्थ आदि का दान न करें।

इसे भी पढ़ें:- काबुल एयरपोर्ट से तालिबानियों ने 150 लोगों को किया अगवा, भारतीयों का जीवन संकट में…