Wednesday, December 8, 2021

Chanakya Niti: गर्भ में ही तय हो जाता है कितना धन अर्जित करेगा नवजात बच्चा

Must read

- Advertisement -

आचार्य चाणक्य ने अपनी किताब में लाइफ के हर महत्वपूर्ण पहलु पर ऐसा ज्ञान दिया है जिससे लोगों का जीवन सुधर सकता है। उन्होंने जीवन को सरल बनाने के लिए जो बातें बताई, वो आज भी उतनी ही प्रासंगिक हैं जितनी पहले हुआ करती थीं। उन्होंने अपनी किताब में बच्चे के जन्म से जुड़ी बातें भी बताई है। चाणक्य ने कहा बच्चा जब गर्भ में होता है तभी उसके जीवन से जुड़ी 5 बातें तय हो जाती हैं। चाणक्य ने अपनी नीति शास्त्र ‘चाणक्य नीति’ के के चौथे अध्याय के पहले श्लोक में गर्भ में पल रहे बच्चे की लाइफ और मृत्यु का भी ज़िक्र किया है।

- Advertisement -

आचार्य चाणक्य ने लिखा है- आयुः कर्म च वित्तं च विद्या निधनमेव च ।
पञ्चैतानि हि सृज्यन्ते गर्भस्थस्यैव देहिनः ।।

इसका मतलब है जीव जब गर्भ में होता है तभी आयु, कर्म, धन, विद्या और मृत्यु- ये पांच बातें निश्चित हो जाती हैं। उनका मानना था कि गर्भ में पल रहे बच्चे की आयु पूर्व में ही तय होती है कि वो किस अवस्था में जाकर मृत्यु को प्राप्त करेगा। बच्चे के कर्म कैसे होंगे, इसका निर्धारण भी मां के गर्भ में ही हो जाता है। यहां तक ये भी तय हो जाता है बच्चा पापी होगा या पुण्य का काम करेगा।

चाणक्य के अनुसार बच्चा बड़ा होकर कितना धन कमायेगा ये भी मां के गर्भ में ही तय हो जाता है। बच्चा अपने गुणों से धनवान बनेगा या परिवार को बदहाली की ओर ले जाएगा ये भी उसके जन्म से पहले ही तय हो जाता है।

चाणक्य ने अपने श्लोक में कहा कि बच्चा इतना बुद्धिमान होगा, गर्भ में ही इसका निर्धारण होता है। चाणक्य के अनुसार बच्चे की मृत्यु भी गर्भ में ही तय हो जाती है। उनके अनुसार मनुष्य की लाइफ में सौ बार मृत्यु का योग बनता है। सौ बार में एक बार काल मृत्यु का होता है और बाकी के योग अकाल मृत्यु के बनते हैं।

चाणक्य ने अपनी किताब में लिखा, मनुष्य अपने अच्छे कर्मों से अकाल मृत्यु का योग बदल सकता है। चाणक्य के अनुसार ये सभी चीजें बच्चे के पिछले जन्म के कर्म और माता के कर्म को मिलाकर तय होतीं हैं।

इसे भी पढ़ें:- अगर आपके पास 1 रुपये का ऐसा सिक्का है तो घर बैठे मिलेंगे 10 करोड़

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest article