Homeधर्म-ज्योतिषछठ पूजा में डूबते हुए सूर्य की अंतिम किरण को दें अर्घ्य,...

छठ पूजा में डूबते हुए सूर्य की अंतिम किरण को दें अर्घ्य, इन बातों का रखें खास ख्याल, पूरी होगी मनोकामना

- Advertisement -

छठ महापर्व का आज तीसरा दिन है। इस दिन डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। छठ के पावन पर्व को मन्नतों का पर्व भी कहा जाता है। इस पर्व पर शारीरिक और मानसिक रूप से शुद्धता का विशेष ध्यान रखा जाता है। पर्व का सूर्य देव को पहला अर्घ्य षष्ठी तिथि को दिया जाता है। जो डूबते सूरज को देते हैं। सूरज की आखिरी किरण को व्रती महिलाएं अर्घ्य देती हैँ। साथ ही सूर्य देव से कामना करती हैं। वैसे जो लोग छठ करते हैं वह ये भलीभांति जानते हैं कि, छठ पूजा के नियम कायदे काफी कठोर होते हैं। ऐसे में हम आपको बताएंगे उन जरूरी बातों के बारे में जिनका ध्यान सूर्य को अर्घ्य देते हुए रखा जाता है।

सूर्य को अर्घ्य देने के कठोर नियम
अर्घ्य देने के लिए जल में सिर्फ थोड़ा दूध मिलाएं ज्यादा नहीं।
फलों की टोकरी को ठेकुवा से सजाकर सूर्य देव की आराधना करें।
सूर्य देव को अर्घ्य देने के बाद अपनी मनोकामना पूरी करने के लिए सच्चे मन से प्रार्थना करें।
सूर्य को अर्घ्य तभी दें जब वह लाल रंग का हो जाए।
सूर्य को अर्घ्य देते समय तन-मन को पूरी तरह स्वच्छ रखें। किसी के प्रति अपने मन में व्यर्थ के विचार नहीं आने दे। ये भी पढ़ेंः- आस्था ही नहीं बल्कि छठ के पीछे छिपे हैं कई वैज्ञानिक कारण, सेहत से जुड़ा है राज

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here