रोमांचक है सचिन पायलट की Love Story, मुस्लिम लड़की की मोहब्बत के लिए परिवार से की थी बगावत

83
sachin pilot sara abdullah love story

sachin-pilot-wife-saraराजनीति की दुनिया में सुर्खियां बटोर रहे राजस्थान के पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट (Sachin Pilot) ने सिर्फ अपनी सरकार ही नहीं बल्कि अपनी पार्टी से भी बगावत कर दी है. इस कारण काफी लंबे समय से सचिन पायलट खबरों में बने हुए हैं. पर आपको जानकर हैरानी होगी कि, सचिन पायलट ने बगावती रुख पार्टी के खिलाफ ही नहीं बल्कि अपने परिवार के खिलाफ भी अपनाया है. जी हां, एक मुस्लिम लड़की के प्यार में पायलट इस कदर पागल थे कि उन्होंने अपने परिवार से बगावत कर डाली थी. मोहब्बत के लिए पायलट ने न तो राजनीतिक ओहदे की चिंता की और न ही मजहब की. बल्कि उन्होंने तो मजहबी दीवारी तोड़ते हुए एक मिसाल कायम कर दी. जिसके चर्चे आज भी होते हैं. तो आइए जानते हैं पायलट की दिलचस्प फिल्मी लव-स्टोरी के बारे में.

मुस्लिम लड़की से मोहब्बत
प्यार मजहब नहीं देखता ये किताबों में जरूर पढ़ा होगा. लेकिन इस बात को सच साबित किया है सचिन पायलट ने. सचिन पायलट जिस मुस्लिम लड़की के प्यार में दीवाने थे वो जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम फारुख अब्दुल्ला की बेटी सारा अब्दुल्ला (Sara Abdullah) है. जी हां, जब इनकी मोहब्बत की खबर परिवार को हुई तो खूब बवाल हुआ.sachin pilot love story लेकिन इनकी मोहब्बत न तो ओहदे के आगे हारी और ना ही मजहब के आगे. दोनों ने विरोध के बावजूद शादी का फैसला किया और साल 2004 में शादी के बंधन में बंध गए. परिवार के खिलाफ जाकर शादी करने से अब्दुल्ला का परिवार अपनी बेटी सारा से नाराज रहा था और काफी समय तक नाता नहीं रखा था.

विदेश में हुआ प्यार
सचिन और सारा दोनों के परिवार राजनीति जगत में एक बड़ा नाम है. दोनों की पहली मुलाकात अमेरिका में पढ़ाई के दौरान हुई थी. यहीं इनकी दोस्ती हुई और प्यार परवान चढ़ा. दोनों अलग-अलग धर्म से ताल्लुक रखते थे और यही धर्म इनके प्यार में रोड़ा भी बना. पर दोनों ने एक साथ रहने का फैसला कर लिया था और इसी वजह से सचिन पायलट परिवार से बागी हो गए थे.sachin pilot sara abdullah पायलट और सारा का परिवार किसी भी हाल में ये रिश्ता नहीं चाहता था. मगर इन दोनों ने मजहब की दीवार तोड़कर प्यार का बीज बोया. हालांकि, दोनों की शाही शादी में सारा का परिवार शामिल नहीं हुआ था. इसके बावजूद सारा ने सचिन से शादी रचाई और पायलट खानदान में बहू बनकर गृहप्रवेश किया था.

दुनिया के सामने किया स्वीकार
सारा के परिवार के खिलाफ शादी करने के फैसले से अब्दुल्ला परिवार खासा नाराज था. पर वक्त के साथ-साथ रिश्तों में आई दूरियां और दरार खत्म होने लगी. फिर वो वक्त आया जब अब्दुल्ला ने पूरी दुनिया के सामने सचिन पायलट को अपने दामाद के रुप में स्वीकार किया. फारुख अब्दुल्ला की रिश्तों को जोड़ने की इस पहल से परिवारों के बीच रिश्ता बन गया. सारा सचिन के साथ काफी खुश रहती हैं और उनके राजनीतिक फैसलों में भी सहयोग करती हैं. वैसे एक वक्त में सचिन ने खुद कहा था कि, वह कभी राजनीति में नहीं आएंगे. यही वजह थी कि वह शादी के बाद नौकरी करने लगे थे.Sachin-Pilot-children जब पिता राजेश पायलट की आकस्मिक मृत्यु हुई तो उन्हें राजनीति में उतरना पड़ा और परिवार की विरासत को संभालना पड़ा. क्योंकि उनके पिता कांग्रेस पार्टी का बहुत बड़े नेता रहे हैं.

ये भी पढ़ेंः- दिलचस्प है ज्योतिरादित्य सिंधिया की Love Story, दुनिया की 50 खूबसूरत महिलाओं में शामिल है धर्मपत्नी