राज्यसभा चुनाव: महाराज की गैर मौजूदगी में कांग्रेस की नई चाल, बीजेपी के इन विधायकों पर टिकी नजर

0
188
CONG

देश में कोरोना काल का संकट जूझ रहा है. जिसको लेकर संपूर्ण भारत में लॉकडाउन कि स्थिति बनी हुई है, हालांकि महामारी के इस दौर में देश में चुनावी तैयारियां जोर पकड़ रही हैं. दरअसल 19 जून को राज्यसभा चुनाव होने जा रहे हैं जिसको लेकर सभी राजनीतिक पार्टियों में हलचल तेज हो गई है. चूंकि हाल ही में गुजरात में कांग्रेस के 2 विधायकों ने राज्यसभा चुनाव से पहले इस्तीफा देकर कांग्रेस को एक बड़ा झटका दिया था, जिसके बाद कांग्रेस भी अलर्ट मोड पर आती नजर आ रही है. बता दें कि बीते दिनों कांग्रेस ने बीजेपी पर विधायकों की खरीद फरोख्त के आरोप लगाए थे। जिसके बाद कांग्रेस ने अपने 65 विधायकों को किसी रिजॉर्ट में शिफ्ट कर दिया था, हालांकि चुनाव से पहले बीजेपी और कांग्रेस दोनों में रस्साकसी जारी है. जानकारी के लिए आपको बता दें कि राज्यसभा चुनाव के लिए महज कुछ ही दिनों का समय रह रहा है, 19 जून को मतदान होने हैं. ऐसें में भाजपा पूर जोर कोशिश में जुटी है कि किसी तरह से कांग्रेस के विधायकों को अपनी ओर लुभा सके ताकि चुनाव में सीटों की बढ़ोतरी हो, संसद में पार्टी को बहुमत ज्यादा मिले. लेकिन इस बीच मध्य प्रदेश की राजनीति का पहिया कहीं ओर जाता दिखाई पड़ रहा है. दरअसल एमपी की तीन सीटों के लिए 4 प्रत्याशी मैदान में उतरे हैं. इन सीटों पर दो बीजेपी के प्रत्याशी (BJP) और 2 कांग्रेस (Congress) के प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे हैं. दोनों दलों के उम्मीदवारों ने वोट मांगने के लिए विधायकों से संपर्क साधना शुरू कर दिया है. सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस की नज़र बीजेपी के असंतुष्ट विधायकों पर बनी हुई है.

ये भी पढ़ें:-राज्यसभा चुनाव से पहले राजनीतिक उथल-पुथल शुरू, अब तक कांग्रेस के 8 विधायकों ने दिया इस्तीफा

राज्यसभा चुनाव को लेकर गुजरात में विधायकों के पाला बदलने से परेशान एमपी कांग्रेस ने 17 जून को विधायक दल की बैठक बुलाई है. इसमें पार्टी विधायकों को पार्टी प्रत्याशी के पक्ष में मतदान के लिए व्हिप जारी किया जाएगा. फूल सिंह बरैया का कहना है वह उम्मीदवार होने के नाते विधायकों से संपर्क कर सकते हैं और वह सभी विधायकों से संपर्क कर समर्थन मांग रहे हैं.

digvijay_singh

वहीं एमपी में भी राज्यसभा चुनाव के लिए सरगर्मी तेज हो गई है. बता दें कि एमपी में बीजेपी उम्मीदवार ज्योतिरादित्य सिंधिया के अस्वस्थ होने के बाद कांग्रेस ने अपनी सक्रियता बढ़ा दी है. दिग्विजय सिंह के साथ कांग्रेस के दूसरे उम्मीदवार फूल सिंह बरैया ने सपा, बसपा, निर्दलीय और बीजेपी के विधायकों से संपर्क साधना शुरू कर दिया है. बरैया फोन पर बीजेपी के असंतुष्ट विधायकों से संपर्क साध रहे हैं. तो वहीं राज्यसभा चुनाव में अपनी जीत सुनिश्चित होने का दावा करते हुए बीजेपी की धड़कनें बढ़ा दी हैं.

bjp-congress-flag

मध्यप्रदेश विधानसभा की बात करें तो यहां कुल 230 सीटें हैं. इनमें से विधायकों की संख्या गणित पर नजर डालें तो  फिलहाल 24 सीट खाली है. जबकि 2 सीट विधायकों के निधन की वजह से और 22 सीटें सिंधिया समर्थकों के इस्तीफा देने पर खाली हुई हैं. सीटों के लिहाज से देखा जाए तो कांग्रेस के 114 में से 22 विधायक कम हैं इसलिए मौजूदा आंकड़ा कुल 92 का है. संख्या गणित में बीजेपी 2 सीटों पर और कांग्रेस 1 सीट पर कब्जा जमा सकती है. जबकि बीजेपी के पास विधायकों की संख्या 107 है. बाकी 4 निर्दलीय,2 बीएसपी और एक एसपी का विधायक है.

ये भी पढ़ें:-राज्यसभा चुनाव: कांग्रेस का किला ध्वस्त करके ही दम लेगी BJP, दे रही है इस तरह का ऑफर