राजनीति में ‘जादूगर’ कहे जाने वाले गहलोत..नहीं समझ पाए पायलट का खेल, वापसी कर तोड़ा घमंड!

2206

राजस्थान की राजनीति में इन दिनों सत्ता की उठ्ठक-बैठक चल रही है, दरअसल गुर्जर समाज से आने वाले सचिन पायलट ने जब कांग्रेस के खिलाफ बगावत शुरू की थी, तो अचानक सीएम गहलोत की दिल की धड़कने तेज हो गई थीं। चूंकि पायलट की नाराजगी उनकी कुर्सी को ले डूबती। मध्यप्रदेश की तरह यहां भी सरकार गिरने के पूरे चांस थे, लेकिन वक्त रहते पार्टी आलाकमान ने पायलट को मना लिया, और फिर से घर वापसी पर स्वागत किया। एक तरफ ये भी कहा जा रहा है कि सीएम अशोक गहलोत और उनके खेमे के विधायक तो यही चाहते थे कि सचिन पायलट का राजस्थान की राजनीति से किसी तरह सफाया हो जाए. लेकिन पायलट की सूझबूझ के चलते वह फिर से एक बार राजस्थान की राजनीति में उभर आए। इससे पहले बागी सचिन पायलट और उनके साथ के विधायकों के सामने ‘माया मिली न राम’ वाले हालात बने हुए थे। अब जब सचिन पायलट की वापसी हो रही है तो पहले गहलोत और अब उनके खेमे के विधायक नाराज हुए पड़े हैं।

ये भी पढ़ें:-राजस्थान में डबल धमाल! सचिन पायलट की वापसी से गहलोत खेमे में भूचाल, कहा- ‘अब नहीं’

अशोक गहलोत को पता है कि सचिन पायलट भले ही अभी कांग्रेस के शीर्ष नेताओं से मिलकर सुलह समझौता कर लें लेकिन वह जिस वैचारिक लड़ाई की बात कह रहे हैं वो इस प्रकरण के बाद भी जारी रहेगी। चूंकि जिसके लिए उन्होंने कांग्रेस की सत्ता उथल-पुथल की थी, वह उस लड़ाई को आसानी से छोड़ने वाले नहीं हैं।

वहीं देर-सबेर ही सही आखिर कार पायलट कांग्रेस में दोबारा शामिल हो ही गए। जिसको लेकर उन्होंने सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी और कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं का धन्यवाद भी किया।

हो सकता है कि राजस्थान सरकार में भी शामिल कर लिया जाए. लेकिन उन्होंने जो सैद्धांतिक और वैचारिक लड़ाई शुरू की थी वो खत्म हो गई है अभी इस पर कहना मुश्किल है। फिलहाल सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार गहलोत खेमा, पायलट की घर वापसी से नाराज है। तो क्या सचिन पायलट का एक कदम पीछे लौटना, नहले पर दहला है। या ये भी हो सकता है सीएम गहलोत को पायलट की राजनीति को समझने में कोई भूल हो गई हो।

बहरहाल राजनीति में ‘जादूगर’ कहे जाने वाले सीएम अशोक गहलोत के हाल में दिए गए सचिन पायलट के बयान से अंदाजा लगाया जा सकता है कि वह किस तरह से उनसे दूरी बनाना चाहते हैं।

ये भी पढ़ें:-राजस्थान बागी विधायकों की शर्त देख हड़बड़ा गया गहलोत खेमा, सरकार गिरने के पूरे चांस!