राजस्थान में डबल धमाल! सचिन पायलट की वापसी से गहलोत खेमे में भूचाल, कहा- ‘अब नहीं’

2736

राजस्थान में पिछले बीस दिनों से चल रहे सियासी नाटक पर अब अंकुश लग चुका है, दरअसल सचिन पायलट ने रविवार को दिल्ली में प्रियंका गांधी और राहुल गांधी से मुलाकात के बाद बगावत के सुर ढीले कर लिए, अब पायलट को पार्टी से कोई नाराजगी नहीं है। लेकिन इन सबके बीच अब खबर आ रही है कि गहलोत खेमे के समर्थक पायलट की वापसी से नाराज हैं। जिनको मनाने सीएम गहलोत और अन्य पार्टी के वरिष्ठ नेता जैसलमेर पहुंच रहे हैं। बताया जा रहा है कि अशोक गहलोत के करीबी और कैबिनेट मंत्री नहीं चाहते कि पायलट और उनके बागी विधायकों की वापसी पार्टी में हो। उनका ये बयान एक तरह से अशोक गहलोत का बयान माना जा रहा था। बता दें कि सचिन पायलट ने सीएम गहलोत पर काम न करने का आरोप लगाया था, जिसके बाद यह बगावत की लड़ाई सत्ता गिरने तक पहुंच गई थी। हालांकि गहलोत खेमे ने अपने विधायकों को संभाला रखा, लेकिन अब ऐसा माना जा रहा है कि पायलट की वापसी से गहलोत खेमा काफी नाराज है।

ये भी पढ़ें:-बागी विधायक सचिन पायलट ने फिर की घर वापसी, राहुल गांधी से मुलाकात के बाद दिया ये बड़ा बयान

कल रात से ही विधायकों की ओर से मुख्यमंत्री को जैसलमेर बुलाए जाने की मांग की गई थी, जिसके बाद प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे और राष्ट्रीय मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने सीएम को विधायकों की भावना से अवगत कराया गया कि पायलट कैंप की घर वापसी से इन विधायकों की नाराजगी बढ़ी है। चूंकि विधायकों का कहना है कि जिस तरह से

पायलट ने उनके मुख्यमंत्री का अपमान किया वह इसे बर्दाश्त नहीं करेंगे। हम नहीं चाहते कि पायलट दोबारा पार्टी में आए। विधायकों के नाराजगी को दूर करने के लिए सीएम अशोक गहलोत, संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल, संयम लोढ़ा और महेंद्र चौधरी जैसलमेर पहुंच रहे हैं। बहरहाल खबर है कि पायलट कैंप के विधायक आज शाम तक दिल्ली से जयपुर के लिए रवाना हो सकते हैं।

ये भी पढ़ें:-सचिन पायलट ने कांग्रेस विधायक के खिलाफ की कानूनी कार्रवाई, लगाया था 35 करोड़ के ऑफर का आरोप