NRC को लेकर अमित शाह पर भड़के ओवैसी, कहा- ये कैसी ‘चाणक्य नीति’ है कि पड़ोसी ही जीडीपी…

0
535
owaisi-amit shah

नागरिकता संशोधन बिल पास होने के बाद से ही सियासी राजनीति के हत्थे चढ़ा हुआ है. लगातार इस बिल पर विपक्ष की तरफ से बयानबाजी जारी है. कभी इस बिल को लेकर राहुल गांधी राजनीति करते हुए नजर आते हैं तो कभी इस बिल पर एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी बयान देते हुए सुने जाते हैं. हाल ही में बीजेपी पर निशाना साधते हुए असदुद्दीन ओवैसी ने एक ट्वीट किया. जिसमें उन्होंने लिखा कि, ‘यह कैसी चाणक्य नीति है अमित शाह जी, कि हमारा प्रिय पड़ोसी ही हमें जीडीपी और जीवन स्तर के बारे में बता रहा है, जबकि आप देश को खोखला करने के बारे में सोच रहे हैं. इतना ही नहीं आगे उन्होंने अपने इस ट्वीट में ये भी लिखा कि, ‘आपको एक सेल्फ हेल्प बुक लिखनी चाहिए कि किस तरह किसी से ‘दोस्ती खत्म की जाए और अपना प्रभाव भी गंवा दिया जाए.’

आपको बता दें कि नागरिकता बिल पास तो हो गया है लेकिन इस बिल को लेकर पूरा विपक्ष मोदी सरकार के खिलाफ है, और अपने विरोध को विपक्ष लगातार दिखा भी रहा है. इस बिल के खिलाफ शनिवार को ओवैसी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका भी दायर की है. इस बात की जानकारी खुद ओवैसी ने अपने एक ट्वीट के जरिए दी है. उस ट्वीट में ओवैसी ने लिखा है कि, “मैंने सीएए के खिलाफ उच्चतम न्यायालय में जनहित याचिका दायर की है. AIMIM भारत के बहुलवादी, धर्मनिरपेक्ष संवैधानिक लोकतंत्र को बनाए रखने के लिए लड़ाई लड़ेगी. यह लड़ाई हर संभव मंच और हमारे पास मौजूद हर संवैधानिक हथियार का उपयोग कर लड़ी जाएगी.”

बता दें कि ये पहली बार नहीं है जब ओवैसी ने नागरिकता संशोधन बिल को लेकर कोई ट्वीट या बयान दिया हो, इससे पहले भी उन्होंने इस बिल के खिलाफ लोकसभा में कहा था कि इस बिल को लाने का उद्देश्य मुसलमानों को “राष्ट्रविहीन” बनाना है, इस बिल के बाद एक और विभाजन होगा. यही नहीं ओवैसी ने आगे ये भी कहा था कि राष्ट्रपिता गांधी को महात्मा इसलिए कहा गया क्योंकि उन्होंने दक्षिण अफ्रीका में भेदभावपूर्ण नागरिकता कार्ड फाड़ा था.

ये भी पढ़ें:- NRC संशोधन बिल पर ओवैसी का फूटा गुस्सा, कहा- यह बिल भारत को इजराइल बना देगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here