mamta mukul

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में चुनाव परिणामों के बाद भारतीय जनता पार्टी को जोर झटका लगने वाला है। बीजेपी के बड़े नेता मुकुल रॉय अपने बेटे सुभ्रांशु के साथ तृणमूल कांग्रेस में वापसी कर रहे हैं। मुकुल रॉय थोड़ी देर में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से पार्टी मुख्यालय में मिलेंगे। इस दौरान अभिषेक बनर्जी भी मौजूद रहेंगे। विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी को मिली जीत के बाद कई पुराने सहयोगी जो पार्टी छोड़ चुके हैं अब घर वापसी चाहते हैं। टीएमसी में वापस आने वालों में मुकुल रॉय का नाम सबसे ऊपर है। मुकुल रॉय, बीजेपी में शुभेंदु अधिकारी के बढ़ते कद से बेचैन थे। पिछले एक सप्ताह में मुकुल रॉय ने ममता बनर्जी से फोन पर 4 बार बात की। चुनाव से पहले ही मुकुल, टीएमसी में आना चाहते थे। ज्ञात हो कि मुकुल को पहले दिलीप घोष से दिक्कत थी। भाजपा में आने के बाद उन्हें पार्टी ऑफिस में जगह नहीं मिली। कैलाश विजयवर्गीय, मुकुल के गुरु थे। बीजेपी ने कैलाश को बंगाल से दूर कर दिया है जो मुकुल का पसंद नहीं है।

टीएमसी नेता सौगत रॉय ने कहा था कि ऐसे बहुत से लोग हैं जो अभिषेक बनर्जी के संपर्क में हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा छोड़कर लौटने वालों को दो कैटिगरीज में बांटा जा सकता है, ये हैं- सॉफ्टलाइनर और हार्डलाइनर। इसमें विरोध करने वाले और पार्टी छोड़ कर विरोध नहीं करने वालों को षािमल किया गया है।

कोलकाता में हुई बीजेपी की मीटिंग में मुकुल रॉय नहीं गये थे। ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी मुकुल रॉय की पत्नी को देखने के लिए अस्पताल पहुंचे थे। पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप में टीएमसी ने मुकुल रॉय को 6 साल के लिए बाहर कर दिया था। मुकुल रॉय का कद कभी ममता बनर्जी के बाद दूसरे नंबर का हुआ करता था।

ये भी पढ़ेंः-टीएमसी मंत्रियों की गिरफ्तारी पर ममता बनर्जी का सीबीआई कार्यालय में प्रचण्ड विरोध, मुझे भी गिरफ्तार करो

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here