Categories
उत्तर प्रदेश राजनीति लखनऊ

ब्राह्मण नेताओं के सपा में शामिल होने पर मायावती ने बढ़ाई तल्खी, अखिलेश और BJP को कही ये बात

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने मंगलवार को केंद्र और राज्य की भाजपा सरकार पर करारा हमला किया है। उन्होंने कहा कि ताबड़तोड़ घोषणाएं, शिलान्यास और आधे-अधूरे कार्यों का उद्घाटन करने से किसी पार्टी का जनाधार बढ़ने वाला नहीं है। उन्होंने बिना नाम लिए समाजवादी पार्टी पर भी निशाना साधा। मायावती ने कहा कि उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले दूसरी पार्टियों के निष्काषित व स्वार्थी किस्म के लोगों को शामिल करने से कोई पार्टी मजबूत नहीं होती है। मायावती ने मंगलवार को प्रेसवार्ता के दौरान पंजाब में शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के 100 वर्ष पूरे होने पर पार्टी को बधाई दी।

Akhilesh yadav kushunagar

मायावती ने कहा कि चुनाव घोषित होने से कुछ समय पहले केंद्र व उत्तर प्रदेश की सरकार द्वारा ताबड़तोड़ घोषणाएं, शिलान्यास व आधे-अधूरे कार्यों के उद्घाटन ही कर रही है। उन्होंने कहा कि इससे पार्टी का जनाधार बढ़ने वाला नहीं है। मायावती ने कहा कि उत्तर प्रदेश की जनता अब इसे अच्छी तरह से समझ चुकी है। उन्होंने कहा कि मैं प्रदेश की जनता को ऐसे सभी हथकंडो से सावधान रहने की अपील करती हूं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को वाराणसी में काशी विश्वनाथ धाम के नए स्वरूप का लोकार्पण किया था। वर्तमान भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार ने कई योजनाओं का लोकार्पण, उद्घाटन किया है।

सपा का नहीं बढ़ेगा जनाधार

समाजवादी पार्टी में बसपा के पूर्वांचल के ब्राह्मण नेताओं को शामिल किए जाने पर मायावती ने निशाना साधा। उन्होंने कहा कि राज्य में विधानसभा चुनाव से पहले दूसरी पार्टियों के खासकर निष्काषित व स्वार्थी किस्म के लोगों को शामिल करने से किसी भी पार्टी का जनाधार नहीं बढ़ेगा। जनता ऐसे घोर स्वार्थी तत्वों को आयाराम व गयाराम ही कहती है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि मीडिया के एक वर्ग द्वारा जनता के सामने यह सब हर दिन इसे ऐसे दर्शाया जाता है जैसे यह कोई बड़ी घटना हो और जनता प्रभावित हो जाए।

शिअद को दी बधाई

मायावती ने पंजाब में शिअद के 100 वर्ष पूरे होने पर पार्टी के नेताओं को बधाई देते हुए कहा कि देश में कम ही ऐसी पार्टियां हैं जिन्होंने 100 वर्षों से अधिक लोगों की सेवा की है। शिअद भारत की पुरानी क्षेत्रीय पार्टी है जो 100 वर्षों से पंजाब की जनता के लिए निरंतर संघर्ष करती रही है। मायावती ने कहा कि पंजाब का मेरे हृदय में विशेष है। दशकों से बसपा व पंजाब के लोगों के मजबूत रिश्ते रहे हैं। पंजाब बसपा के संस्थापक काशीराम जी की जन्मभूमि होने के साथ-साथ वह महान भूमि भी हैं। यहीं से काशीराम ने बहुजन समाज के उत्थान के लिए काफी संघर्ष किया। गौरतलब है कि पंजाब में अगले वर्ष की शुरूआत में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए बसपा और शिअद ने गठबंधन किया है।

यह भी पढ़ेंः-मायावती का बड़ा ऐलान, BSP अकेले बनाएगी 2007 से भी मजबूत सरकार