अगर एकनाथ शिंदे बागी 22 विधायकों के साथ चले गए बीजेपी के खेमे में, तो उद्धव ठाकरे की डूबेगी नैया

महाराष्ट्र के मंत्री एकनाथ शिंदे शिवसेना से काफी नाराज हैं। जिसके चलते वह 17 विधायकों के साथ गुजरात सूरत के एक होटल में ठहरे हुए हैं वहीं यह भी सुना जा रहा है कि पांच विधायक और भी इनके संपर्क में हैं।

0
279

कल 20 जून को महाराष्ट्र में विधान परिषद का चुनाव हुआ है जिसके बाद से उद्धव ठाकरे सरकार काफी मुश्किल में पड़ गई है। आपका बता दे कल कैबिनेट मंत्री एकनाथ शिंदे से उद्धव ठाकरे का संपर्क टूट गया है जिसके बाद से और भी मुश्किल है उनकी बढ़ गई है 11 विधायक शिवसेना सरकार के टूट चुके हैं। आपको बता दें महाराष्ट्र के मंत्री एकनाथ शिंदे शिवसेना से काफी नाराज हैं। जिसके चलते वह 17 विधायकों के साथ गुजरात सूरत के एक होटल में ठहरे हुए हैं वहीं यह भी सुना जा रहा है कि पांच विधायक और भी इनके संपर्क में हैं।

एकनाथ शिंदे कई दिनों से हैं काफी नाराज

आपको बता दें एकनाथ शिंदे कई दिनों से शिवसेना से नाराज हैं एमएलसी चुनाव में शिवसेना के 11 वोट टूट चुके हैं और वही इसी के बीच एकनाथ शिंदे का भी फोन नॉट रिचेबल जा रहा है उनका संपर्क शिवसेना से नहीं हो पा रहा है आपको बता दें कई दिनों से पार्टी सेवा नाराज चल रहे थे । सीएम और पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे के दबदबे के चलते शहरी विकास और लोक निर्माण समेत अन्य भागों में अपने हिसाब से काम ना कर पाने के चलते वह काफी नाराज थे। यह भी सुना जा रहा है कि एक नाथ सिंह 12:00 बजे आज प्रेस कॉन्फ्रेंस सिंह करेंगे वह अभी बताएंगे कि आखिर वह आगे का प्लान क्या कर रहे हैं लेकिन इन सभी के बीच सबसे ज्यादा संकट उद्धव ठाकरे की सरकार पर है।

उद्धव ठाकरे की सरकार पर बना संकट

आपको बता दें कैबिनेट मंत्री एकनाथ शिंदे के इस कदम से शिवसेना पार्टी में फूट पड़ने का खतरा भी मंडरा चुका है। आपको बता दे अगर एकनाथ शिंदे इस पार्टी से अलग होते हैं और उनके साथ में जो विधायक हैं वह भी अलग होते हैं तो शिवसेना सरकार पर वाकई में संकट मारा जाएगा इस वक्त शिवसेना के पास सिर्फ 56 विधायक हैं। वहीं विपक्षी पार्टी के पास इस वक्त 113 विधायक हैं अगर ऐसा शिंदे बागी विधायक के साथ बीजेपी मैं मिल जाते हैं तो उनके पास 135 विधायक हो जाएंगे। ‌ अगर 22 विधायक और एकनाथ सिंह बीजेपी में मिल जाते हैं तो भी बीजेपी को 10 विधायकों की और जरूरत पड़ेगी आपको बता दें इस वक्त बहुजन पार्टी के पास 3 और कांग्रेस के पास 44 सपा के पास 2 और अन्य के पास 11 विधायक हैं।

Read More-रूस और यूक्रेन के युद्ध के चलते जर्मनी में बीयर कंपनियों पर छाया संकट कंपनियों ने जारी किया नया फरमान ,ग्राहकों को बोतल करनी होंगी वापस