इतनी संपत्ति के मालिक हैं CM Yogi के खिलाफ चुनाव लड़ रहे Chandrashekhar Azad, हत्या के साथ दर्ज है 16 केस

अपने एफिडेविट में उन्होंने अपनी पूरी संपत्ति का ब्यौरा और दर्ज आपराधिक मामलों के बारे में हर तरह की जानकारी दी है. इस शपथ पत्र के अनुसार चंद्रशेखर आजाद के पास 44 लाख रुपये की पूरी चल-अचल संपत्ति है.

0
1140

चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Azad) जो कि भीम आर्मी चीफ और आजाद समाज पार्टी (Azad Samaj Party) के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं और गोरखपुर सदर सीट से सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) को विधानसभा चुनाव (UP Assembly Elections) में चुनौती दे रहे हैं. बीते दिन चंद्रशेखर ने अपना नामांकन किया. अपने नामांकन के साथ उन्होंने एफिडेविट भी दिया है, इस एफिडेविट में उन्होंने अपनी पूरी संपत्ति का ब्यौरा और दर्ज आपराधिक मामलों के बारे में हर तरह की जानकारी दी है. इस शपथ पत्र के अनुसार चंद्रशेखर आजाद के पास 44 लाख रुपये की पूरी चल-अचल संपत्ति है. इसी के साथ ही उन पर हत्या को कोशिश के साथ साथ 16 अन्य आपराधिक मामले भी दर्ज हैं.

इतनी संपत्ति के मालिक हैं चंद्रशेखर

चंद्रशेखर, उनकी पत्नी और परिवार के नाम पर टोटल 44.14 लाख रुपये की चल-अचल संपत्ति है. इस संपत्ति में 26.14 लाख रुपये की चल और 17 लाख रुपए की अचल संपत्ति शामिल है. चंद्रशेखर पर अलग-अलग जिलों में 16 मामले दर्ज हैं. इनमें हत्या की कोशिश, सरकारी संपत्ति को नुकसान, बलवा की साजिश, घर में घुसकर धमकी देने जैसे बहुत सारे गंभीर मामले जुड़े हुए हैं. चंद्रशेखर पर कोरोना में महामारी एक्ट के अंतर्गत उल्लंघन करने का केस भी दर्ज किया गया हैं.

आखिर है कौन ये चंद्रशेखर?

चंद्रशेखर सहारनपुर के रहने वाले हैं और उन्होंने साल 2012 में हेमवतीनंदन बहुगुणा, गढ़वाल विश्वविद्यालय से एलएलबी की पढ़ाई पूरी की है. दलितों के अधिकारों के नाम पर चंद्रशेखर आजाद सक्रिय राजनीति में कदम रखे हैं. यूपी में वो मायावती से अलहदा रहकर अपनी राजनीतिक जमीन को खोज रहे हैं. उन्होंने सीएम योगी के खिलाफ चुनाव लड़ने का ऐलान भी किया था. इसी ऐलान के बाद ही उन्होंने गोरखपुर पहुंचकर अपना नामांकन पत्र भी दाखिल कर दिया है. साल 2015 में चंद्रशेखर ने भीम आर्मी भारत एकता मिशन का गठन भी किया था, इसके वह संस्थापक हैं. साल 2017 में मई जब शब्बीरपुर गांव में जातीय हिंसा हो गई तो भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन कर जेल जाकर चर्चा का हिस्सा रहे हैं.

Read More-यूपी में जीत के लिए ओमप्रकाश राजभर का ऐलान- बाइक पर 3 लोगों की सवारी, नहीं पड़ेगी सब पर भारी, जानें