कैबिनेट विस्तार: राजस्थान में सियासी बवाल के बीच BJP ने हिमाचल में बुलाई विधायक दल की बैठक

98
himachal pradesh cabinet meeting

राजस्थान में छिड़े सियासी संग्राम (Rajasthan Political Crisis) के बीच अचानक से देश की सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी (BJP) ने हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में विधायक दलों की एक बैठक बुलाई है. बताया जा रहा है कि ये बैठक 30 जुलाई को होनी है. साथ ही कैबिनेट मीटिंग (Cabinet meeting) भी होगी. फिलहाल अभी 29 जुलाई यानी बुद्धवार को बीजेपी के नवनियुक्त अध्यक्ष सुरेश कश्यप (Chairman Suresh Kashyap) का अभिनंदन और पदभार ग्रहण समारोह का आयोजन पीटरहॉफ में किया जाना है. ताजा खबरों की माने तो इससे जुड़ी सभी तरह की औपचारिकताओं को 11 बजे तक पूरा कर लिया जाएगा. दरअसल कोरोना कहर के वजह से ये कार्यक्रम ज्यादा बड़ा और भव्य तरीके से नहीं किया जा रहा है. महामारी से जुड़े दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए इस दौरान कार्यक्रम में CM जयराम ठाकुर समेत पार्टी के कुछ बड़े नेता, प्रदेश पदाधिकारी और जिला अध्यक्ष ही शिरकत करेंगे.

ये भी पढ़ें:- राजस्थान: बैकफुट पर पायलट खेमे के तीन विधायक?, सुरजेवाला का दावा 48 घंटे में होगी वापसी

बताया जा रहा है कि जिला स्तर पर होने वाले इस अभिनंदन समारोह कार्यक्रम के प्रसारण के लिए वीडियो कांफ्रेसिंग की व्यवस्था बीजेपी (BJP) की तरफ से की गई है. आज 15वें नए अध्यक्ष के तौर पर सुरेश कश्यप को पद और पूरा कार्यभार सौंपा जाएगा. जानकारी की माने तो पदभार ग्रहण समारोह खत्म होने के बाद बीजेपी प्रदेश पदाधिकारियों और जिला अध्यक्षों के साथ सुरेश कश्यप मीटिंग भी करेंगे. कहा जा रहा है कि इस बैठक के दौरान विधायक दल के बीच कैबिनेट विस्तार को लेकर भी बातचीत हो सकती है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बीजेपी विधायक दल की होने वाली बैठक 30 जुलाई को होनी है. इसी को लेकर संसदीय कार्यमंत्री सुरेश भारद्वाज ने पार्टी के सभी विधायकों और मंत्रियों से ये अपील की है कि वो मीटिंग में आने का प्लान तय कर लें. खबर है कि ये मीटिंग सीएम जयराम ठाकुर के नेतृत्व में होगी. जिसमें नवनियुक्त बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सुरेश कश्यप भी शामिल होंगे. फिलहाल इस कोरोना काल में अचानक से हो रही इस बैठक को काफी अहम कहा जा रहा है. क्योंकि इस दौरान कांग्रेस भी सत्ताधारी दल पर मुखर हुई है. सरकार की तरफ से जनता से मांगे गए लॉकडाउन को लेकर सुझाव पर भी विचार-विमर्श होने की संभावना जताई जा रही है. इसके साथ ही विपक्ष के हर सवालों और वार का किस तरह से जवाब देना है, इसे लेकर भी रणनीति तैयार होने की बात कही जा रही है.

ये भी पढ़ें:- सियासी संकट के बीच इंटेलिजेंस की रिपोर्ट ने राजस्थान में मचाया हंगामा, पुलिस के सामने आई चुनौती