Thursday, January 28, 2021
Home देश ममता के खिलाफ बागी हुए एक और मंत्री, शुभेंदु के बाद इस...

ममता के खिलाफ बागी हुए एक और मंत्री, शुभेंदु के बाद इस मंत्री ने की बगावत, मची खलबली

पश्चिम बंगाल (West Bengal) में ममता सरकार (CM Mamta Banerjee) की मुश्किलें कम नहीं हो रही है, प्रदेश कैबिनेट से टीएमसी (TMC) के प्रभावशाली मंत्री रहे शुभेन्दु अधिकारी (Shubhendu Adhikari) के इस्तीफे के बाद टीएमसी सरकार के एक और मंत्री ने बागी तेवर दिखाये हैं, ममता सरकार (CM Mamta Banerjee) में वन मंत्री राजीव बनर्जी (Rajeev Banerjee) ने कहा है कि नेतृत्व से करीबी संबंध रखने वालों को महत्व दिया जाता है, जबकि मेहनती कार्यकर्ता को दरकिनार किया जा रहा है। अगले साल अप्रैल-मई में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले टीएमसी के लिये मंत्री का ये बयान पार्टी के लिए अच्छे संकेत नहीं है इसके बाद टीएमसी के कान खड़े हो गये हैं।

इसे भी पढ़ें:- नोएडा से दिल्ली कूच पर निकली किसानों की फौज, भारी पुलिस की तैनाती पर उठाया ये कदम

राजीव बनर्जी को बीजेपी में शामिल करने के संकेत देते हुए बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि यदि वो गरिमा के साथ काम करना चाहते हैं, तो उन्हें पार्टी से बाहर आना चाहिये, राज्य के वन मंत्री राजीव बनर्जी ने शनिवार को एक कार्यक्रम में कहा था कि राजनीतिक मंच का इस्तेमाल कई लोगों की सहायता के लिये किया जा सकता है, लेकिन कुछ लोग इसका इस्तेमाल व्यक्तिगत हितों के लिये करते हैं।

राजीव बनर्जी ने आगे कहा कि राजनीति में आजकल कुछ ऐसे लोग हैं, जो सत्ता का सुख पाने के लिए अधिक सोचते हैं, बल्कि लोगों की सेवा करना उनका लक्ष्य नहीं होता है। उन्होंने आगे कहा कि इससे मुझे दुख होता है, कि जो लोग जनता के हितों के लिए काम कर रहे हैं और वो सक्षम और मेहनती हैं, उन्हें सही से महत्व नहीं दिया जा रहा है, जबकि जो लोग एसी रूम में बैठे हैं और सोचते हैं कि जनता को मुर्ख बनाया जा सकता है, उन्हें केवल इसलिये महत्व मिल रहा है, क्योंकि उनके लिये जो लोग मायने रखते हैं, उन्हें वो खुश रखते हैं।

टीएमसी महासचिव पार्थ चटर्जी ने राजीव बनर्जी के बयान पर अपना रिएक्शन दिया है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार वातानुकूलित कक्षों में नहीं बैठती हैं, हमारी सरकार लोगों के घरों के दरवाजों पर सेवाएं पहुंचाने का कार्य करती है। वहीं दूसरी तरफ टीएमसी सांसद कल्याण बनर्जी ने कहा कि अगर कोई जाना चाहता है, तो वो ऐसा कर सकता है। उन्होने आगे कहा कि सिर्फ एक पेड़ हैं ममता बनर्जी, अगर कोई उनकी छाया छोड़ कर जाना चाहता है, तो वो जाने के लिये आजाद है।

इसे भी पढ़ें:- किसान आंदोलन पर सनी देओल का बयान- मैं बीजेपी के साथ और किसानों..

Most Popular