Categories
उत्तर प्रदेश राजनीति लखनऊ

अमित शाह के ABCD जुमले पर अखिलेश का करारा जवाब, A अब B भाजपा C छोड़ D दी…

लखनऊ। विधानसभा चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश में जुबानी जंग तेज हो गयी है। भारतीय जनता पार्टी जहां जुमलों से लगातार हमलावर है, वहीं समाजवादी पार्टी शानदार जवाब भी दे रही है। उत्तर प्रदेश के चुनाव में आमने-सामने जंग लड़ रहीं दो पार्टियों के नेताओं के बीच जमकर जुमले बाजी हो रही है। एक तरफ से हमला होता ही है कि दूसरी तरफ से जवाबी वार भी हो जा रहा है। इस जुबानी जंग, जुमलेबाजी में एक तरफ अखिलेश यादव हैं तो दूसरी तरफ योगी-मोदी, जेपी नड्डा, अमित शाह हैं। अमित शाह भी अपने तीर छोड़ रहे हैं। जुबानी जंग अनोखे तंजों के साथ तीखी और मनोरंजक भी हो रही है। जुबानी जुमले बाजे के अब मजे लिये जा रहे हैं।
मंगलवार को हरदोई में अमित शाह ने रैली के दौरान ABCD  का फार्मूला पेश किया। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी के नेताओं के लिए ABCD का मतलब A अपराध और आतंक, B भाई और भतीजावाद, C- करप्शन और D- दंगा है। उनके इस जुमले के चुनावी तीर का अखिलेश यादव ने तुरंत ही जवाब दे दिया। अखिलेश यादव ने कहा कि ABCD का मतलब A अब B- भाजपा C- छोड़ D- दी. अखिलेश ने ट्वीट करके कहा कि हाथरस, लखीमपुर, गोरखपुर, आगरा कांड जैसे अन्य कांडों की वजह से अब तो भाजपा के समर्थक भी भाजपा के खिलाफ खड़े होकर कह रहे हैं ABCD।

अखिलेश यादव और सीएम योगी आदित्यनाथ के बीच तो जुबानी जंग चलती रहती है। ताजा मामला अमित शाह और अखिलेश का एकदम अनोखा है। अखिलेश यादव अमूमन हर रैली में ‘चीलमजीवी’ शब्द का प्रयोग करते हैं। वे कहते हैं कि सीएम हाउस में धुंए के धब्बे दिख जायेंगे। उनके इस वार पर योगी आदित्यनाथ ने सीतापुर में जबरदस्त पलटवार किया। उन्होंने कहा कि ये 12 बजे जगने वाले लोग अपनी जेब में बोतल लेकर घुमते हैं और वो भी स्वीडन का। बताने की जरूरत नहीं कि दोनों नेताओं ने एक दूसरे के लिए जनता से क्या कहना चाहा है।

इससे पहले पीएम मोदी ने मंत्र दिया था यूपी प्लस योगी बराबर उपयोगी ( UP + YOGI)। उनके इस बयान के तत्काल बाद अखिलेश यादव ने हमला बोल दिया। उन्होंने कहा कि सीएम योगी यूपी के लिए उपयोगी नहीं है बल्कि अनुपयोगी है। अखिलेश ने कई योजनाओं को सीधा हमला किया। बात थोड़ी पुरानी भले हो गई लेकिन, वो भी इसी जंग का हिस्सा रही है। अमित शाह ने अपनी एक रैली में JAM का नारा दिया था। JAM का मतलब उन्होंने समझाते हुए कहा था कि हमारे लिए J जनधन अकाउण्ट, A आधार कार्ड और M मोबाइल फोन है, जबकि सपा के लिए J- जिन्ना, A- आजम खान और M मुख्तार अंसारी है। योगी आदित्यनाथ और अखिलेश यादव के बीच बाबा और बबुआ का किस्सा भी काफी प्रचलित रहा है।

यह भी पढ़ेंःअमित शाह के JAM का अखिलेश ने कुशीनगर में ऐसे दिया जवाब, प्रदेश में है ठोको राज