पायलट बनने का सपना पूरा हुआ, तो उसने पूरे गांव को अपने खर्च पर हवाई जहाज में घुमाया

0
438

कहते है सपने देखने की कोई उम्र नहीं होती और जिनके सपने पूरे होते है उनसे ज्यादा खुशनसीब कोई नहीं होता। वही कई लोग जिन्दगी में कामयाब होने के बाद अक्सर अपनी जड़ों को भूल जाते है। लेकिन हरियाणा के हिसार के रहने वाले विकास ज्यानी कामयाबी के बावजूद अपनी जड़ो को नहीं भूले। उन्होंने पढ़ाई कर पायलट बनने का अपना सपना पूरा किया। तो वहीं विजय ने अपने गांव के लोगों का भी सपना पूरा किया।

हिसार जिले के सारंगपुर गांव के रहने वाले विकास ज्यानी ने पायलट बनने के बाद अपने गांव के 22 बुजुर्ग लोगों को अपने खर्चे पर पहली बार हवाई सफर कराया। टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक गांव के बुजुर्गों ने नई दिल्ली से अमृतसर की उड़ान भरी और सबने स्वर्ण मंदिर, जलियां वाला बाग, वाघा बॉर्डर का भ्रमण किया। अपना सपना पूरा होता देख इन सभी बुजुर्गों में नया जोश देखने को मिला।

हवाई सफर करने वाले 22 लोगों में से अधिकतर ऐसे थे जो अपनी जिंदगी के आखिरी पड़ाव पर है। इन लोगों ने कभी सोचा भी नहीं था कि इस उम्र में उन्हें पहली बार हवाई जहाज में बैठने का मौका मिलेगा। इसमें 90 साल की बिमला, 78 साल के रमामुती, 78 साल के कांकेरी देवी, 80 साल के अमर सिंह शामिल थे। अपनी खुवाहिश पुरी होने के बाद इन सभी ने विकास को और सफलता का आशीर्वाद दिया। हवाई सफर करने वाले बुजुर्गों के मुताबिक विकास पढ़ने में काफी मेधावी था और उन्हें उम्मीद थी कि वह अपनी जिंदगी में कुछ अच्छा करेगा।

हवाई जहाज में बैठने के बाद 78 वर्षीय कांकेरी देवी ने बताया कि यह उनकी जिंदगी का सबसे अच्छा लम्हा था। बता दे कि विकास के पिता बैंक में मैनेजर हैं। उन्होंने कहा कि इस तीर्थ यात्रा से उन्हें काफी खुशी हुई। उन्होंने कहा, ‘विकास ने अपना पायलट बनने का सपना तो पूरा ही किया साथ ही हम सभी का सपना भी पूरा किया। सभी युवाओं को विकास से सीख लेनी चाहिए।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here