यूपी के लोगों को ये क्या हो गया ? आम तोड़ने पर किशोर की हत्या…तीन को उम्रकैद

उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था हमेशा ही सवालों के घेरे में रही है। कहा जाता है कि यूपी में पुलिस प्रशासन का खौफ किसी में नहीं है। तभी तो हर बार यूपी के गुंडाराज ने पुलिस और प्रशासन की छवि को खराब किया है। इसी गुंडाराज का सबूत प्रदेश के कानपुर में घटी 2012 घटना है। जब उत्तर प्रदेश में महज आम चुराने की बात पर लोग एक 13 साल के लड़के को पीट-पीट कर मार डालते है। जिसमें आज 7 साल बाद इस घटना का फैसला आता है। अदालत ने आरोपियों को उम्र कैद की सजा सुनाई है। दरअसल उत्तर प्रदेश में कानपुर देहात के समायु गांव में अखिलेश नाम के युवक के द्वारा आम के पेड़ से आम तोड़े गए। लेकिन इस छोटी सी बात पर भी गांव में बड़ा विवाद हो गया। इतना ही नहीं, गांव के कुछ लोगों ने आम तोड़ने पर किशोर की पीट-पीटकर हत्या तक कर दी गई। जिसके बाद किसी को हत्या का पता न चले। आरोपियों ने अखिलेश के शव को पेड़ से लटका कर मामले को खुदखुशी जैसा दिखाने की कोशिश की।

लेकिन इस दौरान अखिलेश के बड़े भाई ने हार नहीं मानी। अखिलेश के बड़े भाई राजकुमार ने सभी आरोपियों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करवाया। जिसके चलते पुलिस ने नंदलाल, रामदास और रामआसरे पर हत्या का मामला दर्ज हुआ। इस दौरान दोनों पक्षों में लंबी बहस देखने को मिली। लेकिन सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता धनंजय पांडेय ने बताया कि पोस्टमार्टम में किशोर के सीने पर चोटें व फांसी पर लटकाने से पहले मौत हो जाने की बात स्पष्ट हुई थी। साथ ही अदालत ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद तीनों नामजदों को घटना का दोषी मानते हुए आजीवन कारावास और दस-दस हजार रुपये अर्थदंड की सजा सुनाई है। हालांकि उत्तर प्रदेश में महज छोटी सी बात पर खूनी खेल ये पहली बार नहीं हुआ। इससे पहले भी कई बार प्रदेश में छोटी- छोटी घटनाओं पर खूनी खेल की खबरें सामने आई है। जिसके चलते उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की जिम्मेदारी ज्यादा बढ़ जाती है। ये भी पढ़ें:- यूपी में इस मंदिर से मूर्तियां फेंकने पर बवाल, इलाके में तनाव का माहौल

देखिए, पुलिस की महिला के साथ करतूत…

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,092,598FansLike
5,000FollowersFollow
5,023SubscribersSubscribe

Latest Articles