Categories
Breaking News

उमा भारती का खुला ऐलान ‘कुछ और नहीं राम मंदिर ही बनेगा’

राम मंदिर मामले को लेकर शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि इस मामले को मध्यस्थता के जरिए सुलझा लिया जाए. कोर्ट ने मध्यस्थता के लिए नाम भी सुझा दिए हैं. वहीं कोर्ट के फैसले के बाद प्रतिक्रियाएं आनी शुरू हो गई. इसी कड़ी में प्रतिक्राय देते हुए केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने कहा कि कोर्ट का सम्मान करते हैं. साथ ही हम राम भक्त भी हैं. हम एक ही बात कहेंगे कि जैसे वेटिकन सिटी में मस्जिद नहीं बन सकती, जैसे मक्का-मदीना में मंदिर नहीं बन सकता. उसी तरह से रामलला जहां पर हैं वहां दूसरा कोई धार्मिक स्थल नहीं बन सकता है.

सभी मिलकर राम मंदिर का करेंगे निर्माण
उन्होंने कहा कि कोर्ट ने तो शुरू से कहा है कि ये भूमि विवाद का मामला है और आस्था का तो विवाद ही नहीं है. भूमि का केस होता है तो दोनों पार्टियां अगर समझौता कर लेती हैं तो उसे कोर्ट मानता है. ऐसे में सुप्रीम कोर्ट ने अपनी परंपरा का निर्वहन किया है. उमा ने कहा कि अच्छा होगा कि सभी मिलकर राम मंदिर निर्माण के लिए काम करें. वहीं उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या ने कहा कि हम सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर सवान नहीं उठाएंगे.

क्या कहा कोर्ट ने
आज सुप्रीम कोर्ट ने फैसला देते हुए कहा कि मध्यस्थता से ही इस मामले को सुलझाएं. कोर्ट की तरफ से 3 नाम भी सुझाए गए हैं, जिनमें श्री श्री रवि शंकर, श्री राम पंचू और जस्टिस इब्राहिम का नाम शामिल हैं. इस पैनल को 8 हफ्ते में रिपोर्ट सौंपनी होगी. साथ ही केस में मीडिया कवरेज पर भी रोक लगा दी गई है.

मीडिया पर बैन
पैनल को फैजाबाद जाने के लिए कहा गया है. जहां पर ये लोग मध्यस्थता के जरिए फैसला करें. साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने साफ कर दिया है कि प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया इसकी कवरेज नहीं करेगा. मध्यस्थता की प्रक्रिया एक हफ्ते में शुरू करने के लिए कोर्ट की तरफ से कहा गया है. ये भी पढ़ें: बुरे वक्त में मिलेंगे 10 लाख रुपये, आज ही फ्री में ले लीजिए ये कार्ड

Leave a Reply

Your email address will not be published.