आज शाम को धनु राशि में प्रवेश करेंगे गुरु, 6 राशियों के लोगों को मिलेंगी खुशखबरी!

0
273

गुरु को नवग्रहों में देवगुरु भी कहा जाता है. और गुरु 29 मार्च को धनु राशि में प्रवेश करने जा रहे हैं. राशि में केतु पहले से ही विराजमान हैं. गुरु 22 अप्रैल तक धनु राशि में विराजमान रहेंगे. फिर वो वापस वृश्चिक राशि में चले जाएंगे. ज्योतिषों के मुताबिक जानें बाकी राशियों का हाल

मेषः
गुरु का परिवर्तन इस राशि के नवम भाव में होगा. यह परिवर्तन मेष राशि वालों को शुभ फल प्रदान करेगा. धार्मिक कार्यों और अध्यात्म में रूचि बढ़ेगी। मान-सम्मान और कीर्ति में वृद्धि होगी, घर में मांगलिक कार्य संपन्न होंगे।

वृषभः
गुरु का परिवर्तन इस राशि के अष्टम भाव में होगा। यह बदलाव स्वास्थ्य संबंधित परेशानियां दे सकता है। कार्यस्थल पर अधिकारियों के कारण दिक्कतें हो सकती हैं। कष्ट निवारण के लिए गुरूवार के दिन केले के वृक्ष के नीचे दीपदान करें.

मिथुनः
गुरु इस राशि के सप्तम भाव में गोचर करेंगे। यह बदलाव मिथुन राशि वालों के लिए शुभ फलदायक है। प्रभावशाली व्यक्तियों से संपर्क और लाभ प्राप्त होगा।

कर्कः
गुरु राशि के षष्ठम भाव में प्रवेश करेंगे। यह बदलाव शत्रु भय, ऋण-रोग, आय से अधिक व्यय की परिस्थितियां पैदा करेगा। शत्रु आप पर हावी होने का प्रयास करेंगें। किसी से वाद-विवाद न करें, अन्यथा समस्या हो सकती है।

सिंहः
गुरु राशि के पंचम भाव में प्रवेश करेंगे। यह बदलाव आपके लिए भाग्योदय कारक है। विद्यार्थियों के लिए परीक्षा परिणाम मनोनुकूल रहेगा, मित्रों का सहयोग, गुरुवार के दिन शुभ फलों में वृद्धि के लिए गाय को गुड़-रोटी खिलाकर आशीर्वाद प्राप्त करें।

कन्याः
गुरु राशि के चतुर्थ भाव में गोचर करेंगे। गुरु का परिवर्तन मानसिक अशांत एवं तनाव का वातावरण परिजनों से मतभेद उत्पन्न कर सकता है। माता-पिता के स्वास्थ्य को लेकर परेशानी रह सकती है।

तुलाः
गुरु राशि के तृतीय भाव में गोचर करेंगे। पराक्रम में वृद्धि लेकिन आकस्मिक खर्च, ट्रांसफर, निकटतम भाई-बंधुओं को शारीरिक कष्ट हो सकता है। कठिनाई से धन प्राप्त होगा।

वृश्चिकः
गुरु राशि के द्वितीय भाव में संचरण करेंगे। यह परिवर्तन धनलाभ के योग बनाएगा। अविवाहितों का विवाह योग, कर्ज में डूबे को कर्ज मुक्ति, व्यापारियों को व्यापार में लाभ होगा।

धनुः
गुरु राशि में प्रथम भाव में गोचर करेंगे। यह बदलाव पहले से चली आ रही समस्याओं का निदान करेगा। हालांकि अज्ञात भय, ट्रांसफर, मानसिक उलझनें एवं संघर्षों के बाद धन लाभ एवं कार्य में प्रगति प्राप्त होगी।

मकरः
गुरु राशि के द्वादश भाव में संचरण करेंगे। यह बदलाव धार्मिक यात्राओं के संयोग बनाएगा, विदेश भ्रमण, कलाकारों को दूरस्थ स्थान से लाभ प्राप्त होगा। ट्रांसफर, मनोरंजन कार्यों में धन का व्यय, निरंतर मानसिक अशांति एवं आंतरिक भय से मुक्ति पाने के लिए गुरुवार का व्रत करें

कुंभः
गुरु का बदलाव राशि के एकादश भाव में होगा। गुरु का परिवर्तन भाग्योदय कारक है। इसके कारण उन्नति के नए अवसर प्राप्त होंगे। मन में चल रही अशांति दूर होगी। मान-सम्मान और प्रतिष्ठा बढ़ेगी। प्रमोशन, धन लाभ, अविवाहितों का विवाह संपन्न होगा।

मीनः
गुरु का परिवर्तन आपकी राशि के दशम भाव में होगा। गुरु का राशि परिवर्तन मीन राशि वालों के लिए सामान्य फलदायी है। पिता से वैचारिक मतभेद न हों, ध्यान रखें। कार्यक्षेत्र में परिवर्तन, नौकरीपेशा वालों को उच्चाधिकारियों के विरोध का सामना करना पड़ सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here