इस दिन करना चाहिए पवित्र नदियों में स्नान, घर में आती है सुख शांति

0
381
gansh

बुधवार 6 मार्च को दान-पुण्य का एक अहम दिन है। बुधवार को फाल्गुन मास की अमावस्या है। यह दिन नदियों में स्नान के लिए काफी खास माना जाता है। कहते है कि इस दिन अगर कोई व्यक्ति पवित्र नदी में स्नान करे या फिर दान करे, तो उसे काफी लाभ होता है। वही इस दिन श्रीगणेश की पूजा भी काफी की जाती है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा का कहना है कि इस दिन भगवान गणेश की पूजा जरूर करनी चाहिए। सभी जरूरी चीजें रखी जाए और सही तरीके से पूजा से ही भगवान प्रसन्न होते है। इसके अलावा आज के दिन पूजा में ऊँ गं गणपतये नम: मंत्र का जाप करना चाहिए।

क्या है पूजा की विधि
जरूरी सामान- पूजा के दौरान कई सामान की जरूरत पड़ती है। लेकिन पूजा में कुछ सामान ऐसे होते है जिनके बिना पूजा सफल नहीं मानी जाती। ऐसे ही गणेश जी की पूजा में चावल, कुमकुम, दीपक, धूपबत्ती, दूध, दही, घी, शहद, शकर, साफ जल, श्रीगणेश के लिए वस्त्र, फूल, नैवेद्य के मिठाई और फल, अष्टगंध, जनेऊ, सुपारी, पान, मोदक के लड्डू, सिंदूर, इत्र, दूर्वा, केले, कर्पूर होने चाहिए।

पूजन विधि
सबसे पहले पूजा करने से पहले मंदिर में गणेशजी की पूजा की व्यवस्था करें। इसके बाद मूर्ति में गणेशजी का आवाहन करें। यानी की गणेश जी को पूजा के लिए आमंत्रित करे। इसका मतलब ये है कि आज गणेश जी को अपने घर बुला रहे है।

इसके बाद गणेश को अपने घर सम्मान सहित स्थान दे। फिर गणेश जी को स्नान कराएं। हालांकि स्नान से पहले पंचामृत जिमसें दूध, दही, घी,शहद और शकर होता है, करे और फिर जल से स्नान कराएं। अब श्रीगणेश को वस्त्र पहनाएं। वस्त्रों के बाद आभूषण और फिर जनेऊ पहनाएं। अब पुष्पमाला पहनाएं और फिर गणेश जी की पूजा करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here