इंजीनियरिंग छोड़कर किसान बनी ये बेटी…अब दुबई से लेकर इजराइल तक जाती हैं इनकी सब्जियां

0
260

मध्यप्रदेश की 27 साल की वल्लरी चंद्रकर ने अपनी नौकरी छोड़ खेती करने के फैसले से सबको हैरान कर दिया। दरअसल वल्लरी चंद्रकर मध्यप्रदेश के इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रोफेसर है। लेकिन अपनी अच्छी खासी सैलेरी को छोड़कर उसने 27 एकड़ की जमीन पर खेती शुरू की। जिसके बाद अब उसकी उगाड़ी गई सब्जियां दुबई और इजराइल जैसे देशों में निर्यात होने के तैयार है।

आपको बता दे कि 27 साल की वल्लरी चंद्रकला कंप्यूटर साइंस के क्षेत्र मे एमटेक किया है। जिसके बाद वह दुर्गा कॉलेज मे सहायक प्रोफेसर के रूप में नौकरी कर रही थी। लेकिनअचानक वल्लरी ने अपने गांव बागबाहरा जाने का फैसला किया। बागबाहरा छत्तीसगढ़ का एक जिला है। यहां पर उसने अनपे फार्म हाउस की 27 एकड़ जमीन पर खेती करनी शुरू की। वल्लरी की उगाई गई सब्जियां अब पूरे भारत के कई शहरों जैसे इंदौर, नागपुर, बेंगलुरु और दिल्ली में बेची जाती। इतना ही नहीं उन्हें दुबई और इजराइल से टमाटर और लौकी के लिए एक ऑर्डर मिला हुआ है। ये सब्जियां 60-75 दिनों में बेचने के लिए तैयार हो जाएंगी।

बता दे कि वल्लरी का कहना है कि खेती से ज्यादा कोई भी नौकरी महत्वपूर्ण नहीं हो सकती है। हां इसमें मेहनत भी ज्यादा लगती है लेकिन जो संतुष्टि किसी को खेती में मिलती है वह और कहीं नहीं मिलती। इसके आगे उनका कहना है कि नई तकनीक की वजह से खेती अब इतनी मुश्किल नहीं है लेकिन जब मैंने अपनी नौकरी छोड़ खेती शुरू की तो कई लोगों ने मुझे एक शिक्षित मूर्ख कहा। मेरे परिवार में तीन पीढ़ियों में कोई भी खेती नहीं कर रहा था। मुझे शुरू में किसानों, बाजारों और विक्रेताओं से निपटने में कठिनाई का सामना करना पड़ा।

वही आपको बता दे कि खेती में सामने आने वाली परेशानियों से निपटने के लिए वल्लरी ने इंटरनेत से खेती की कई नई तकनीक सीखीं। इसके साथ ही स्थानिय लोगों से स्थानिय भाषा में बात कर कई चीजे जानी। जिसके बाद वह जमीन पर काम कर रहे किसानों के लिए नई कृषि तकनीकों पर कार्यशालाएं भी आयोजित करवाती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here