ये हैं कृषि मंत्री कमलाकनन, जो सिर्फ नाम के मंत्री नहीं…खेतों में फावड़ा भी चलाते हैं

0
272

राजनीति की दुनिया में ऐसे बहुत कम ही नेता होते हैं. जो अपने बड़े ओहदे का इस्तेमाल नहीं करते. बल्कि एक आम इंसान की तरह ही अपनी जिंदगी जीते हैं. एक ऐसे ही कृषि मंत्री हैं कमलाकनन. जो कृषि मंत्री हैं लेकिन खेतों में फावड़ा भी खुद ही चलाते हैं. वरना तो देश में ऐसी कई नेता है जो अपने ओहदे का इस्तेमाल करने में पीछे नहीं रहते. लेकिन कमलाकनन एक ऐसा नेता हैं जो एक ईमानदार और मेहनती नेता हैं. कमलाकनन पांडिचेरी में कृषि मंत्री के पद पर तैनात हैं.

बात अगर भारत के बाकी नेताओं की करें, तो कुछ नेताओं को तो विरासत में राजनीति मिली है. तभी 70 सालों तक उन्होंने देश पर राज भी कर लिया. लेकिन लोगों के बीच अपनी पहचान अच्छी बनाने में सफल नहीं हो पाए. क्योंकि जब चुनाव आते हैं तब तो ये लोग जनता की समस्या सुनने उनके घर आते हैं. उनके घर खाना खाते हैं. और जब चुनाव जीत जाते हैं. तब कोई उन वादों को पूरा करने जनता के घर नहीं आता. तब तो जनता के लिए विधायक, सांसद के दर्शन करने ही दुर्लभ हो जाते हैं.

पर पांडिचेरी के कृषि मंत्री कमलाकनन वाकई एक प्रेरणा है. उन नेताओं के लिए जो राजनीति में आकर खुद को बहुत बड़ी हस्ती मानते हैं. पर ये नेता एक बड़े नेता होने के बावजूद अपनी जमीन से जुड़े हैं. इनकी जितनी भी तारीफ की जाए वो कम ही है. ये भी पढ़ेंः- गोवा में पर्रिकर को स्कूटर वाला सीएम कहते थे आप भी जानिए ये खास बातें

गोवा के पूर्व सीएम मनोहर पर्रिकर भी ऐसी ही शख्सियत थे. जिन्होंने अपनी ईमानदारी से देश में अपनी अलग नेता के रूप में पहचान बनाई है. जिनके निधन के बाद भी लोग उनका उदाहरण देते हैं. इसी लिस्ट में एपीजे अब्दुल कलाम भी है जिनकी छवि काफी साफ थी. तो वहीं अटल बिहारी वाजपेयी जी ने भी भारत को परमाणु शक्ति से संपन्न किया. ये भी पढ़ेंः- मोदी के मिशन शक्ति से चौंकी दुनिया, न्यूक्लियर टेस्ट से कम नहीं भारत की ये उपलब्धि

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here