गांव की पंचायत ने इंसाफ की जगह सुना दी सजा, महिला को निर्वस्त्र कर घुमाने का फरमान

0
415
jharkhand

झारखंड में पंचायत ने महिला को बेहद शर्मनाक फरमान सुनाया है। यहां के कोडरमा में गांव में एक महिला को खुद पर हुए शारीरिक शोषण के लिए आवाज उठाना भारी पड़ गया है। दरअसल यहां झारखंड के कोडरमा में गांव में एक महिला का भतीजा उसका शोषण कर रहा था। महिला ने इसके खिलाफ आवाज उठाई तो उसे ही सजा सुना दी गई महिला ने बताया कि पति के गैर मौजूदगी में बीते तीन महीने से उसका भतीजा शारीरिक शोषण कर रहा आ रहा था। गांव की पंचायत में महिला ने इंसाफ की उम्मीद में महिला ने गांव की पंचायत में इसकी शिकायत की। लेकिन वहां जो उस महिला ने सोचा भी नहीं होगा।

गांव की पंचायत ने महिला को ही दोषी बना कर खड़ा कर दिया। महिला को इंसाफ देने के बजाए उल्टे उसे ही निर्वस्त्र कर और बाल काट कर घुमाने का तुगलकी फरमान सुना दिया। हैरानी की बात है कि तुगलकी फरमान देते हुए महिला को सजा सुना दी। महिला पंचायत के पास अपने लिए न्याय की उम्मीद से पहुंची थी। लेकिन पंचायत के फैसले के बाद पीड़ित महिला का पूरा परिवार सदमें है।

पीड़ित महिला ने दूसरी महिलाओं पर पीटने का आरोप भी लगाया है। जब इस बात की जानकारी गांव के मुखिया को लगी तो वो आश्चर्य में आ गए। गांव के मुखिया ने बताया कि कुछ लोगों ने ग्राम पंचायत से अलग महिलाओ की पंचायत बुलाई था जहां उस महिला को ये शर्मनाक सजा सुना दी। गांव के मुखिया ने कहा कि पंचायत कोई कोर्ट नहीं जो सजा सुनाए।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here