इन शहरों के छात्र नहीं खेल पाएंगे PUBG गेम, बोर्ड परीक्षाओं के चलते लगा बैन

0
500

10वीं और 12 वीं परीक्षा को ध्यान में रखते हुए गुजरात की सरकार ने पबजी गेग को बन्द करने का ऐलान कर दिया है. जनवरी महीने के आखिर में गुजरात सरकार ने सभी जिला प्रशासकों से राज्य भर के सभी स्कूल परिसरों में लोकप्रिय PUBG मोबाइल गेम को बैन करने के लिए निर्देश दिए है. गेम को बैन किए जाने की वजह ये बताई जा रही है कि बच्चों पर ये नकारात्मक असर पड़ रहा है. इसी के साथ ही बच्चों में इस गेम की आदत बनती जा रही है.

जिसके कारण उनका मन पढ़ाई में नहीं लग पा रहा है. उनकी पढ़ाई का टाइम टेबल का शेडयूल बिगड़ रहा है. अब राजकोट सिटी पुलिस ने ट्विटर पर ये जानकारी साझा की है कि 9 मार्च से 30 अप्रैल तक शहर में PUBG मोबाइल पूरी तरह से प्रतिबंधित है. क्योंकि ये अवधि शैक्षणिक वर्ष का बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है, जहां 10 वीं और 12 वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाएं आयोजित की जाती हैं.

सार्वजनिक सुरक्षा के मद्देनजर राजकोट शहर पुलिस आयुक्तालय की ओर से कहा गया है कि यदि कोई इस आदेश का उल्लंघन करता हुआ पाया जाता है, तो राजकोट सिटी पुलिस एक्ट के अधिकार के तहत, आपराधिक प्रक्रिया अधिनियम, 1973 की धारा 144 (1974 का अधिनियम 1) और गुजरात पुलिस अधिनियम की धारा 37 (3) के अनुसार कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा.

यहां तक कि सूरत जिला प्रशासन ने भी इसी तरह की कार्रवाई की है और ऊपर दी गई जानकारी के अनुसार ही उस अवधि के लिए 9 मार्च से PUBG मोबाइल का पूर्ण प्रतिबंध लागू किया है. साथ ही आपको बता दें टीनएज सुसाइड ऑनलाइन गेम मोमो चैलेंज को पर भी राजकोट पुलिस ने प्रतिबंध लगाया है. हालांकि PUBG को लेकर पैरेंट्स ज्यादा परेशान हैं.ये भी पढ़ें:लोकसभा चुनाव 2019…ये हैं वो 5 मुद्दे, जो तय करेंगे अगले प्रधानमंत्री की कुर्सी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here