सोमवार के दिन भगवान शिव की इस तरह करें पूजा, पूरी होंगी आपकी सारी मनोकामनाएं

सोमवार के दिन भगवान शिव की पूजा करने का काफी महत्व होता है। ऐसा कहा जाता है कि, भगवान शिव जिस भक्त से खुश हो जाते हैं उसकी सारी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं। वैसे तो भगवान शिव को कई नामों से पुकारा जाता है। लेकिन भगवान शंकर का सबसे लोकप्रिय नाम भोले है। सोमवार के दिन शिव मंदिरों में बम-बम भोले के जयकारे सुनाई देते हैं। कहते हैं जीवन से जुड़ी सारी मनोकामनाओं को पूरा करने की सबसे ज्यादा शक्ति शिवलिंग में होती है। जो भक्त पूरी आस्था से भगवान शिव की पूजा-अर्चना करता है। उसे उसकी पूजा का फल अवश्य मिलता है।

भोले बाबा को यूं तो बड़ी आसानी से ही प्रसन्न किया जा सकता है। और शिव की पूजा करना भी काफी आसान है। भगवान शिव की पूजा करने में सिर्फ एक लोटा गंगा जल या शुद्ध जल ही शिव को खुश करने के लिए काफी होता है। हां लेकिन, कुछ और चीजों को शिवलिंग पर चढ़ाने से कई सारी मनोकामनाएं जल्द ही पूरी हो जाती हैँ।

कर्ज दूर करने के लिए शहद चढ़ाएं
मान्यता है कि, कर्ज से मुक्ति पाने के लिए शिवलिंग पर शहर से अभिषेक करना चाहिए। इस उपाय को करने से कर्ज के साथ-साथ पापों से भी मुक्ति मिल जाती है।bholenath

संतान सुख के लिए दूध चढ़ाएं
कई लोग संतान सुख से वंचित होते हैं। पर अगर शिवलिंग पर दूध से अभिषेक किया जाए। तो भगवान शिव जल्द ही संतान का सुख दे देते हैं।

इन चीजों से नाराज हो जाते हैं भगवान शिव

1.नारियल-भगवान शिव की पूजा में नारियल के पानी से अभिषेक नहीं करना चाहिए। नारियल को देवी लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है, इसलिए इसे शिव जी को नहीं चढ़ाया जाता।

2.सिंदूर- भूल से भी शिवलिंग पर सिंदूर या कुमकुम नहीं चढ़ाना चाहिए। कुमकुम सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है, जबकि भगवान शिव वैरागी हैं, इसलिए शिव जी को कुमकुम नहीं चढ़ना चाहिए।

3.तुलसी- सनातन परंपरा में तुलसी के पौधे को पूजा के लिए काफी शुभ माना गया है। लेकिन तुलसी के पत्तों को शिवलिंग पर चढ़ाना वर्जित माना गया है। क्योंकि भगवान शिव ने तुलसी के असुर पति का वध कर दिया था। ये भी पढ़ेंः- श्री अचलेश्वर महादेव शिव का एक वो मंदिर ;जहां सदियों से भर नहीं पाया छोटा सा कुंड

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,092,598FansLike
5,000FollowersFollow
5,023SubscribersSubscribe

Latest Articles