Categories
Breaking News

बुरी तरह फंस गया है विपक्ष? सर्जिकल स्ट्राइक का ही सबूत मांग रहा है

इन दिनों देश की राजनीति में एयरस्ट्राइक का मामला चर्चा में है. विपक्ष सरकार से मारे गए आतंकियों का आंकड़ा मांग रहा है. हालांकि, सरकार की तरफ से भी कोई आंकड़ा जारी नहीं किया गया है. वहीं अगर आप 2016 की याद करें तो उस वक्ते भारतीय सेना ने पीओके में घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक की थी, जिसके सबूत उस वक्त भी विपक्ष ने मांगे थे. वहीं मोदी सरकार ने विपक्ष के इस सवाल को सेना के शौर्य और पराक्रम पर सवाल खड़े करने को जोड़ते हुए विपक्ष की जमकर आलोचना की थी. इसके बाद सरकार ने जून 2018 में सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो जारी कर दिया. उस वक्त विपक्ष की किरकिरी हुई थी.

विपक्ष दोहरा रहा है वही गलती?
वहीं अब मौजूदा समय में विपक्ष एक बार फिर से वही गलती करता हुआ नजर आ रहा है. एयरस्ट्राइक को लेकर सबसे पहले पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने 28 फरवरी को कहा कि अंतरराष्ट्रीय मीडिया में एयरस्ट्राइक में कोई नुकसान न होने की खबरें आ रही हैं. अब पीएम नरेंद्र मोदी बताएं कि बम कहां गिराए और कितने आतंकी मारे गए. इसके बाद सवाल पूछने वालों की लिस्ट लंबी होती चली गई, जिसमें कांग्रेसी नेता कपिल सिब्बल, पी. चिदंबरम, दिग्विजय सिंह, नवजोत सिंह सिद्धू समेत अजय सिंह शामिल हैं. सिब्बल ने ट्वीट करते हुए मोदी सरकार से पूछा कि ‘क्या अंतरराष्ट्रीय मीडिया में जो किसी भी नुकसान की खबर आ रही है वो प्रो-पाकिस्तानी है? हम मिलिट्री पर सवाल नहीं कर रहे हैं, बल्कि ये कह रहे हैं कि पुलवामा हमले के बाद पीएम नरेंद्र मोदी पूरे मामले का राजनीतिकरण कर रहे हैं.’

चुनावी मुद्दा बनाने की कोशिश
विपक्ष लगातार इस मुद्दे को चुनावी मुद्दा बनाने में लगा हुआ है. वहीं विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए अपने ट्वीट में कहा ‘रात ३.३० बजे मच्छर बहुत थे, तो मैंने HIT मारा. अब मच्छर कितने मारे, ये गिनने बैठूँ, या आराम से सो जाऊँ?’ इससे पहले वीके सिंह अमित शाह के उस बयान का समर्थन करते हुए नजर आए, जिसमें शाह ने कहा था कि एयरस्ट्राइक में 250 से ज्यादा आतंकी ढेर हुए. वहीं इसके बाद 3 मार्च को सीपीआई नेता डी. राजा ने सवाल खड़े करते हुए पूछा की भारतीय मीडिया में 200-300 आतंकियों के मारे जाने का आंकड़ा कहां से आया?

लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान किसी भी वक्त हो सकता है, जिसके चलते विपक्ष के सवाल को बीजेपी सेना के शौर्य पर शक बताते हुए अपनी रैलियों और भाषण में इस्तेमाल कर रही है. वहीं ये सवाल भी खड़ा हो गया है कि क्या विपक्ष सर्जिकल स्ट्राइक का ही सबूत मांगकर गलती कर रही है? ये भी पढ़ें: बालाकोट हमला: मोदी के जनरल की गर्जना मच्छर काटने पर हिट मारूं यां गिनती गिनूं?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *